जेएनएन, समालखा (पानीपत)। इब कयाहे में भी छोरा तै कम ना है म्हारी छोरियां। यह हर क्षेत्र में नाम कमा रही हैं, चाहे खेल का मैदान हो या सीमा पर देश की रक्षा, इसलिए हर माता-पिता को अपनी बेटियों को मौका देना चाहिए, ताकि वो अपने सपनों की उड़ान भर सके।

यह कहना है अंतरराष्ट्रीय महिला पहलवान बबीता फौगाट का। बबीता यहां भापरा राजकीय मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में रॉकबाल अमेचर फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से आयोजित प्रथम नेशनल रॉकबाल फेडरेशन कप व तीसरी सब जूनियर प्रतियोगिता में बतौर मुख्य अतिथि पहुंची थीं। बबीता ने कहा कि खेल को खेल भावना से खेलें। चाहे कोई हारे या जीते, मलाल न रखे। हार से हार न माने। हार के आगे हमेशा एक जीत छुपी है, उसे हमें पहचाना है और फिर आगे बढ़ना है।

उन्होंने कहा कि सरकार को प्रतिभाएं निखारने के लिए विशेष योजनाएं शुरू करनी चाहिए, ताकि प्रदेश के खिलाडिय़ों को आगे बढऩे का मौका मिले। सरकार इस खेल को भी हरियाणा ओलंपिक में शामिल करे। सेल्फी लेने के लिए लगी होड़ टूर्नामेंट का शुभारंभ करने के लिए पहुंची दंगल गर्ल बबीता फौगाट के साथ सेल्फी को लेकर युवाओं में होड़ मची रही। हर कोई उसके साथ सेल्फी लेने के लिए उतावला दिखा।

हरियाणा ने गुजरात को हराया

टूर्नामेंट का पहला मैच हरियाणा व गुजरात की महिला टीम के बीच हुआ। जिसमें हरियाणा विजयी रही।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt