पानीपत/जींद, जेएनएन। नरवाना के गांव बेलरखां स्थित डेरा सुरतीवाला के महंत बाबा तारानाथ की उसके चेले ने ही नशे में सिर में डंडा (मोटा बिंडा) मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बाबा के चेले बोलिया के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है। 

गांव बेलरखां वासी बलजिंद्र ने पुलिस को बताया कि मंगलवार रात को उसके खेत में पानी का वार था। रात को साढ़े 10 बजे जब वह खेत में जा रहा था तो रास्ते में मोहलखेड़ा-बेलरखा रोड पर स्थित डेरा सुरतीवाला में 43 वर्षीय बाबा तारानाथ के पास चला गया। यहां बाबा तारानाथ का चेला नशे की हालात में था और उसके साथ झगड़ा कर रहा था। उसने किसी तरह उस समय बाबा तारानाथ व बोलिया को समझा-बुझाकर शांत कर दिया। उसके बाद वह खेत में पानी देने के लिए चला गया। 

रात 12 बजे आया था चेला

जब वह खेत में रात को 12 बजे पानी लगा रहा था तो बाबा बोलिया उसके पास खेत में नशे में आया। उसने बताया कि उसने बाबा तारानाथ का काम तमाम कर दिया है। इसके बाद बाबा बोलिया खेतों के रास्ते वहां से पैदल ही चला गया। जब वह सुबह डेरा सुरतीवाला में गया तो वहां डेरे में बाबा तारानाथ कहीं दिखाई नहीं दिया। जबकि वहां जगह-जगह खून के छींटे दिखाई दे रहे थे। जब उसने डेरे के पीछे जाकर देखा तो खेत में बाबा तारानाथ का शव पड़ा हुआ था और पास में ही बाबा बोलिया का डंडा पड़ा था। 

नशा करने का आदि था बोलिया बाबा

डेरा सुरतीवाला में वह बाबा तारानाथ के पास पिछले चार माह से आता-जाता रहता था। वह अपने आपको बाबा तारानाथ का चेला बताता था। ग्रामीणों ने बताया कि बाबा बोलिया नशा करने का आदि था, जबकि बाबा तारानाथ नशे को हाथ भी नहीं लगाता था। जब भी बाबा बोलिया डेरे में आता था तो बाबा तारानाथ उसको नशे में देखकर गुस्सा हो जाता था और गुस्से में उसको थप्पड़ भी मार देता था। बीती रात को भी बाबा बोलिया ने अधिक मात्रा में नशा किया हुआ था, नशे को लेकर उनमें कहासुनी हो गई और बोलिया बाबा ने बाबा तारानाथ की हत्या कर दी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस