पानीपत/जींद, जेएनएन। सफीदों हलके के गांव मांडो खेड़ी व उचाना हलके के गांव डूमरखां खुर्द व घसो कलां में सरपंच पद के उपचुनाव को लेकर लोगों में पूरा उत्साह देखा गया। डूमरखां खुर्द में तो वोट डालने के लिए शाम पांच बजे भी लंबी लाइनें लगी हुई थीं। मांडो खेड़ी में अनीता, घसो कलां में मनीषा व डूमरखां खुर्द में प्रताप ने सरपंच पद का चुनाव जीता।

डूमरखां खुर्द में सरपंच पद को लेकर तीन उम्मीदवार और मांडो खेड़ी व घसो कलां में दो-दो उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। सुबह आठ बजे मतदान शुरू हुआ, जो चार बजे तक चला। सरपंच चुनने के लिए मतदाताओं में मतदान के लिए उत्साह दिखाई दिया। सुबह से ही मतदाता पोङ्क्षलग बूथ पर पहुंचने शुरू हो गए थे। युवा मतदाता से लेकर बुजुर्ग मतदाता अपने मत का प्रयोग करने के लिए लाइन में लगा हुआ नजर आया। घसो कलां गांव में लंबी-लंबी कतार देर दोपहर तक नजर आई। जो बुजुर्ग चलने में सक्षम नहीं थे उनको उनके परिजन बाइक के अलावा अन्य वाहनों में लेकर मतदान केंद्र पहुंचे। स्कूल गेट से उनको गोद में उठा कर मतदान केंद्र तक लेकर गए। चार बजे मतदान केंद्र का गेट बंद कर दिया गया। मतदान केंद्र के अंदर जो मतदाता थे, वो ही मत का प्रयोग कर सकते थे। डूमरखां खुर्द व घसो कलां में मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी लाइन होने के चलते सरपंच के चुनाव परिणाम काफी देरी से घोषित हुए। 

डूमरखां खुर्द में पुलिस सुरक्षा रही कड़ी 

डूमरखां खुर्द गांव में तो भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। यहां पर विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान जेजेपी उम्मीदवार के साथ हुई तकरार के चलते  सरपंच पद के उप चुनाव में भारी संख्या में पुलिस बल नजर आया। डीएसपी नरवाना खुद यहां रुक कर हर गतिविधि पर नजर बनाए हुए थे। घसो कलां के राजकीय स्कूल में मतदान केंद्र पर थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ मौजूद रहे। दोनों गांव में पुरुष, महिला पुलिस तैनात रही। डूमरखां खुर्द में दो बूथ होने के चलते मतदाताओं को लंबी लाइनों में लग कर काफी देर तक बारी का इंतजार करना पड़ा। मतदाताओं ने बताया कि यहां पर बूथों की संख्या कम से कम 4 होती तो मतदान तेजी से होता, लेकिन यहां पर इस बार तो ही बूथ मतदान के लिए किए गए।  

गीत गाती मतदात केंद्र पहुंची महिलाएं

मतदान करने के लिए गीत गाते हुए मतदान केंद्र पर महिलाए टोलियां बना कर पहुंच रही थी। सुबह के बाद दोपहर बाद मतदाताओं की लंबी भीड़ मतदान केंद्र के बाहर नजर आई। सरपंच का उप चुनाव होने के चलते जो मतदाता अपने रिश्तेदारों के यहां किसी कार्य से बाहर थे उनको भी जो समर्थक के सरपंच उम्मीदवार के समर्थक थे वो लेकर आए। घर से मतदाताओं को वाहनों में मतदान केंद्र तक सरपंच उम्मीदवारों के समर्थक लेकर आ रहे थे।

रोचक: मांडो खेड़ी महिला सरपंच की मौत के बाद दूसरी पत्नी भी बनी सरपंच

गांव मांडो खेड़ी में सरपंच का चुनाव काफी रोचक रहा। गांव के किसान अनिल लाठर की पत्नी पिंकी सरपंच थी। डिलीवरी के दौरान उनकी मौत हो गई थी। इसके बाद अनिल ने दूसरी शादी की। अब उपचुनाव में अनिल ने दूसरी पत्नी अनीता को फिर सरपंच पद के लिए खड़ा कर दिया। अनिल के अच्छे व्यवहार और सहानुभूति के चलते ग्रामीणों ने उसे एकतरफा समर्थन दिया। गांव में कुल 487 वोट हैं, जिनमें से अनिल की दूसरी पत्नी अनीता को 247 वोट मिले, जबकि प्रतिद्वंद्वी सुशीला पत्नी बलजीत को 169 वोट मिले। अनीता ने 78 वोटों से जीत हासिल की। 

घसो कलां : 10 वोटों ने जीती मनीषा 

गांव घसो कलां में सरपंच पद के उपचुनाव को लेकर दो उम्मीदवारों में कांटे का मुकाबला रहा। यहां पर देर शाम तक वाेटिंग हुई। 2632 मतदाताओं में 2092 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। मनीषा को 1051 वोट मिले तो कविता को 1041 मत प्राप्त हुए। मनीषा ने 10 मतों से सरपंच पद का चुनाव जीता। 

डूमरखा खुर्द : 331 वोटों से एकतरफा जीते प्रताप

उचाना के गांव डूमरखां खुर्द में सरपंच पद के उपचुनाव में प्रताप ने एकतरफा जीत दर्ज की। चुनाव में तीन उम्मीदवार थे। यहां पर देर शाम तक वोङ्क्षटग हुई। 2727 मतदाताओं में 1989 मतदाताओं ने मत का प्रयोग किया। प्रताप को 896 वोट मिले तो सुनील को 565 मत प्राप्त हुए। प्रताप ने 331 मतों के अंतर से सरपंच पद का चुनाव जीता। 

डूमरखां खुर्द का परिणाम

कुल वोट -2727

वोट पोल - 1989

प्रताप को मिले - 896

सुनील को मिले - 565 

कुल 331 मतों से प्रताप विजयी

घसो कलां का परिणाम

कुल वोट: 2632

वोट पोल हुए: 2092 

मनीषा को मिले: 1051 

कविता को मिले: 1041 

कुल 10 मतों से मनीषा विजयी

मांडो खेड़ी का परिणाम

कुल वोट: 427

वोट पोल हुए: 416

अनीता को मिले: 247

सुशीला को मिले: 169

कुल 78 मतों से अनीता विजयी 

बिजली व लोन का नोड्यूज न देने पर पौली में पंच का फार्म रिजेक्ट

जुलाना : मालवी गांव में वार्ड-9 से सर्वसम्मति से वजीर को पंच चुन लिया गया। वहीं, पौली गांव में वार्ड-1 से पंच के लिए एक ही उम्मीदवार जयभगवान ने नामांकन किया था। बीडीपीओ धर्मबीर ने बताया कि जयभगवान बिजली व बैंक के लोन संबंधित नोड्यूज नहीं दे सका, जिसके कारण उसका फार्म रिजेक्ट कर दिया गया। 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस