जागरण संवाददाता, समालखा : गांव मनाना में मुख्य रास्ते पर शराब का ठेका खुलने से नाराज महिलाओं ने सोमवार शाम ठेके पर ताला जड़ दिया। उन्होंने सरकार व प्रशासन के प्रति रोष जताया और उक्त रास्ते पर किसी भी सूरत में ठेके न खुलने देने की मांग पर अड़ी रही। खबर पाकर थाना से सब इंस्पेक्टर गौरव कुमार व आबकारी एवं कराधान विभाग के इंस्पेक्ट राहुल मौके पर पहुंचे। उन्होंने उच्चाधिकारियों से बात कर समस्या के समाधान का आश्वासन दिया तो महिलाएं शांत होकर घर लौटी। वहीं समाधान न निकलने तक ठेका भी बंद रखा जाएगा। ये मेन, रास्ता हू बेटियों का निकलना होगा दूभर

ग्रामीण अमित, सुरेश, रामकुमार, रेनू, जगमती, रेनू, पिकी, मीना, कमलेश, राजो, निर्मला आदि ने बताया कि गांव से नारायणा जाने वाले रास्ते पर एक शराब का ठेका पहले से खुला हुआ है। अब गांव से समालखा जाने वाले मुख्य रास्ते पर भी खोल दिया गया है। उन्होंने बताया कि उक्त रास्ते से न केवल गांव की बेटियां स्कूल, कालेज व कोचिग सेंटर पर जाने के लिए होकर निकलती है, बल्कि अन्य लोग भी यहीं से आते हैं।

उन्होंने कहा कि उक्त रास्ते से दिन रात लोग आते-जाते हैं। यहां शराब का ठेका खुलने से शराबियों का जमावड़ा लगेगा। इस कारण बहू बेटियों व अन्य लोगों का निकलना तक दूभर हो जाएगा। उन्होंने बताया कि गांव से समालखा तक सवारियों की व्यवस्था न होने पर ज्यादातर स्कूल व कालेज जाने वाली बेटियां उक्त रास्ते से पैदल होकर ही निकलती है।

ग्रामीणों ने कहा कि उक्त रास्ते पर वो ठेके को किसी भी हाल में नहीं खुलने देंगे। ठेकेदार को उन्होंने शुरूआत में ही अवगत करा दिया था, लेकिन उसने उनकी बात को अनसुना कर खोखा रख ठेका खोल दिया। इससे गुस्साई महिलाएं शाम को ठेके पर पहुंची और कारिदें को बाहर निकाल ताला लगा रोष जताया। ठेकेदार बताने वालों को सुनाई

पता लगने पर दो गाड़ियों में कई लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने ठेकेदार बताते हुए सरकारी फीस जमा कराकर ही ठेका खोलने और गांव में अवैध तौर पर बिकने वाली शराब का हवाला देने लगे। इस पर महिलाएं भड़क गई और उनको जमकर खरी खोटी सुनाते हुए किसी भी सूरत में ठेका न खुलने देने पर अड़ गई। एक महिला ने तो गिरेबान तक पकड़ लिया। फिर वो हाथ जोड़ने लगा। इंस्पेक्टर पर भी भड़की महिलाएं

पता लगने पर पहले थाना से सब इंस्पेक्टर गौरव कुमार मौके पर पहुंचे। महिलाओं ने उन्हें मैन रास्ते पर ठेका खुलने पर होनी वाली परेशानी से अवगत कराया। उन्होंने ठेकेदार बताने वालों से परमिट आदि कागजात मांगे तो उन्होंने मुहैया करा दिए। सब इंस्पेक्टर ने ग्रामीणों से संबंधित विभाग के अधिकारियों के नाम मांग पत्र लिखने के लिए कही। तभी आबकारी एवं कराधान विभाग के इंस्पेक्टर राहुल भी मौके पर पहुंच गए। उसने महिलाओं से उक्त रास्ते पर ठेका खुलने की बात कहीं तो महिलाएं भड़क गई और खरी खोटी सुनाई। ऐसे में महिलाओं को गुस्सा देख इंस्पेक्टर ने उनके द्वारा लिखित उच्चाधिकारियों को भेज समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया तो महिलाएं व ग्रामीण शांत होकर वापस लौटे।

Edited By: Jagran