कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। 2 दिसंबर से 19 दिसंबर तक अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 मनाया जाएगा।  इस महोत्सव में गत वर्षों की तरह कार्यक्रमों के आयोजन के साथ-साथ आनलाइन क्विज प्रतियोगिता, श्लोकोच्चारण व 48 कोस के तीर्थों पर कार्यक्रमों के अलावा 48 कोस के तीर्थों को लेकर एक प्रदर्शनी भी लगेगी।

नोडल अधिकारी एवं खाद्य आपूर्ति विभाग के प्रधान सचिव विजय दहिया ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 को परंपरा अनुसार पूरे जोश और श्रद्धा के साथ कुरुक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर पर मनाया जाएगा। इस महोत्सव को लेकर 2 दिसंबर से 19 दिसम्बर 2021 तक विभिन्न कार्यक्रमों और गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का पूरा स्वरुप आजादी का अमृत महोत्सव पर आधारित होगा।

प्रधान सचिव विजय दहिया सोमवार को लघु सचिवालय के सभागार में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 की तैयारियों को लेकर अधिकारियों की एक बैठक ली। इससे पहले प्रधान सचिव विजय दहिया और राज्यपाल के सचिव एवं केडीबी सदस्य सचिव अतुल द्विवेदी ने महोत्सव में होने वाले तमाम कार्यक्रमों पर विस्तार से चर्चा की और सभी कार्यक्रमों को अंतिम स्वरुप देने के लिए कुछ आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए। इसके बाद प्रधान सचिव विजय दहिया, राज्यपाल के सचिव अतुल द्विवेदी, उपायुक्त मुकुल कुमार, एडीसी अखिल पिलानी, केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, केडीबी सीईओ अनुभव मेहता, अंडर ट्रेनिंग आईएएस जया शारदा ने ब्रह्मसरोवर पुरुषोतमपुरा बाग का अवलोकन भी किया।

प्रधान सचिव ने कहा कि महोत्सव में आनलाइन क्वीज प्रतियोगिता, जिला व राज्य स्तर पर श्लोकोच्चारण प्रतियोगिता, हरियाणा पैवेलियन, देश की जानी-मानी सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं की प्रदर्शनी, डीआईपीआर विभाग की राज्य स्तरीय प्रदर्शनी, सांस्कृतिक कार्यक्रम, संत सम्मेलन, शोभा यात्रा जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छोटे से लेकर बड़े स्तर के कार्यक्रमों पर चर्चा की गई है। इस महोत्सव में मुख्य कार्यक्रम 9 दिसम्बर से 14 दिसम्बर तक होंगे। इसी दौरान धार्मिक और सामाजिक संस्थाओं जिनमें जिओ गीता, सिख समाज, संत रविदास, अहिल्या बाई, आर्य समाज, पतंजलि योग पीठ, इस्कॉन, चिन्मय मिशन, आर्ट ऑफ लिविंग, रामा-कृष्णा मिशन, ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सहित अन्य संस्थाओं के सहयोग से ब्रह्मसरोवर पर प्रदर्शनी और साहित्य के दर्शन करने को मिलेंगे।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी को जहन में रखते हुए कोविड-19 के प्रोटोकॉल को अपनाया जाएगा और सभी लोगों की सुरक्षा और स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाएगा। इस महोत्सव में लोगों को कोविड-19 की गाईडलाईंस की पालना करने बारे जागरुक भी किया जाएगा। इस महोत्सव को सभी लोगों के सांझे प्रयासों से मनाया जाएगा। यह महोत्सव सभी का सांझा महोत्सव है। सरकार का प्रयास है कि पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेशों को जन-जन तक पहुंचाया जाए और जिला स्तर से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर तक इस महोत्सव के माध्यम से गीता का संदेश जन-जन तक पहुंचेगाद्घ यह कुरुक्षेत्र का सौभाग्य है कि इसी धरा पर भगवान श्रीकृष्ण ने गीता के उपदेश दिए और इसी धरती पर अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव जैसे आयोजनों को किया जा रहा है। इसलिए इस महोत्सव को सभी मिलकर धार्मिक भावना, श्रद्घा और जोश के साथ मनाएंगे। उपायुक्त मुकुल कुमार ने मेहमानों का स्वागत किया और केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा व केडीबी के सीईओ अनुभव मेहता ने महोत्सव के कार्यक्रमों की रुपरेखा पर प्रकाश डाला। इस मौके पर हरियाणा कला एवं सांस्कृतिक कला विभाग की निदेशिका प्रतिमा चौधरी, डीएसपी सुभाष चंद्र, डीईओ अरुण आश्री, केयूके डीवाईए के निदेशक डा. महासिंह पूनिया, सांस्कृतिक अधिकारी रेणू, केडीबी सदस्य उपेन्द्र सिंघल, विजय नरुला, सौरव चौधरी, सुशील राणा, केसी रंगा, महिन्द्र सिंगला, एनआईसी अधिकारी विनोद सिंगला सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

कुरुक्षेत्र 48 कोस के तीर्थ स्थलों पर भी होंगे भव्य कार्यक्रम

प्रधान सचिव विजय दहिया ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में कुरुक्षेत्र के 48 कोस तीर्थों पर भी कार्यक्रमों का आयोजन होगा। इन तीर्थों को लेकर एक प्रदर्शनी भी ब्रह्मसरोवर पर लगाई जाएगी। इस 48 कोस के लोगों को महोत्सव में आमंत्रित करने के साथ-साथ एक विशेष सत्र में सम्मेलन का भी आयोजन किया जाएगा।

विश्व गुरु भारत को लेकर होंगे कार्यक्रम

प्रधान सचिव ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के सभी कार्यक्रमों का स्वरुप आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर आजादी का अमृत महोत्सव के अनुसार होगा। इसलिए महोत्सव में विश्व गुरु भारत से जोडक़र सभी कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

Edited By: Anurag Shukla