पानीपत/अंबाला, [अंशु शर्मा]। पहली बार वोट करने के जुनून ने मिसाल पैदा कर दी। मतदान के लिए लालकुर्ती बाजार निवासी 19 वर्षीय सोफिया कश्यप ने सिंगापुर से छुट्टी लेकर लोकतंत्र के इस महासमर में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। दो दिन पहले ही सोफिया अंबाला पहुंच गई थी। सोमवार सुबह लालकुर्ती बाजार स्थित कैंटोनमेंट बोर्ड स्कूल में बने मतदान केंद्र में अपना वोट डाला। 

सोफिया ने बताया कि वह एयर होस्टेस है और दिल्ली के अंदर इंडिगो फ्लाइट में जॉब करती है। फ्लाइट में वह सिंगापुर कंपनी के काम से गई हुई थी। वोट डालने को लेकर काफी उत्साहित थी। पहले ही सोच रखा था कि वह हर परिस्थितियों में अपने मत का इस्तेमाल करना नहीं भूलेगी। जैसे ही उसे पता चला कि अबकि बार वह भी मतदान करेगी तो तीन दिन की छुट्टी लेकर अंबाला आई थी। माता सुनैना व पिता कृष्ण कन्हैया ने बताया कि उन्होंने विदेश से वापिस आने या ना आने का फैसला बेटी पर ही छोड़ दिया था।

लेकिन, सोफिया का कहना था कि यह पहला मौका है कि जब वह वोट करेगी और पांच साल में एक बार देश की सरकार बनाने का मौका वह नहीं छोड़ सकती। इसलिए वह 19 अक्टूबर को ही अंबाला पहुंची थी। 22 अक्टूबर को वह दोबारा सिंगापुर चली जाएगी।

सरकार की कार्यशैली सही है और ठीक निर्णय ले रही है। देश हित में कई सख्त निर्णय लिए गए हैं, जो पहले नहीं लिए गए। कुछ समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन यह हल हो जाएंगी।

आस्था, कड़ासन

वादा तो हर प्रत्याशी करता है। मेरे लिए तो रोजगार एक मुद्दा है। वोट मैंने दे दिया है और देखते हैं कि कौन जीतेग और वह अपने वायदों पर कितना खरा उतरता है। 

नयना, शहजादपुर

यूथ के लिए पार्टियों ने क्या घोषणा की है, उसका आकलन करने के बाद ही वोट देना तय किया है। हर पार्टी ने युवाओं के रोजगार की बात की है, इसी पर फोकस का प्रत्याशी का चुनाव किया है।

- भानू, बीडी फ्लोर मिल के पीछे

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस