पानीपत, जेएनएन। जज की कोठी में चोरी करने का आरोपित अभिषेक मंगलवार दोपहर सिटी थाने से पुलिस हिरासत से फरार हो गया। पुलिस उसे कोर्ट में पेश करने वाली थी। जांच अधिकारी एएसआइ परविंद्र कागज में मुहर लगवाने लगा और आरोपित अभिषेक फरार हो गया। थाना शहर पुलिस सहित चार टीमों ने नूरवाला, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन सहित 20 कॉलोनियों में तलाश की, लेकिन सुराग नहीं लगा। 

थाना प्रभारी राजबीर सिंह ने मीडिया से भी झूठ बोला कि अभिषेक को जेल भेज दिया है। बाद में एसपी सुमित कुमार ने बताया कि ड्यटी में लापरवाही बरतने पर केस दर्ज कर एएसआइ परविंद्र को सस्सेंड कर दिया गया है। साथ ही विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है। बता दें कि 26 दिसंबर 2018 को किला थाना से मारपीट करने का आरोपित मुस्तफा भी खिड़की से कूदकर भाग चुका है।

यह है मामला

ऑफिसर कॉलोनी निवासी एडीजे जसबीर सिंह सिद्धू की पत्नी जगरूप कौर ने पुलिस को शिकायत दी कि 29 नवंबर को वह सेशन जज की बेटी की शादी समारोह में गई थी। रात 12:20 बजे घर लौटी तो बदमाश घर में घुसा था। लैपटॉप उसने कंधे पर टांग रखा था। वह कुछ समझ पाती कि बदमाश शगुन का लिफाफा छीन कर फरार हो गया। थाना शहर पुलिस ने केस दर्ज कर चार दिन बाद आरोपित अभिषेक को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस पूछताछ में अभिषेक ने बताया कि वह कैटङ्क्षरग का काम करता था। सेशन जज की बेटी की शादी में काम करने आया था। इसी दौरान उसने जज के घर में चोरी कर ली। 

सुर्खियों में थाना शहर, गृहमंत्री कर चुके हैं महिला एसआइ को सस्पेंड

15 दिन से थाना शहर सुर्खियों में हैं। 16 नवंबर को गृहमंत्री अनिल विज ने थाना शहर का निरीक्षण किया था। इस दौरान गैरहाजिर मिलने पर एसआइ निर्मला को सस्पेंड कर दिया था। मंत्री थाने की साफ-सफाई से भी संतुष्ट नहीं थे। इसके बाद आइजी योगेंद्र नेहरा ने भी निरीक्षण के बाद थाने में अव्यवस्था पाए जाने पर नाराजगी जताई थी।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस