जेएनएन, जींद। बंदरों से बचने के लिए आठ साल की बच्ची नैना नहर में कूद गई और डूबने से मौत हो गई। शहर की इंदिरा कॉलोनी निवासी नैना शनिवार दोपहर को दूसरे बच्चों के साथ मीट मार्केट के पास गली में खेल रही थी। इस गली के नजदीक से ही हांसी ब्रांच नहर गुजरती है। इसी दौरान वहां बंदर आ गए और उनके पीछे लग गए।

बंदरों से बचने के लिए नैना नहर की पटरी की तरफ दौड़ी और नहर में कूद गई। जब देर तक नैना घर नहीं पहुंची, तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की, लेकिन जब बच्ची नहीं मिली, तो पुलिस में शिकायत की। रविवार सुबह पुलिस को पता चला कि बच्ची नहर में कूदी है। शहर थाना प्रभारी रोहताश ढुल ने पुलिस कर्मियों के साथ नहर में सर्च अभियान चला बच्ची का शव बरामद किया। नैना तीसरी कक्षा की छात्रा थी। उसके पिता श्याम छाज बनाने का काम करते हैं। श्याम के चार लड़के हैं और एक बेटी थी।

 यह भी पढ़ें: पंचकूला में युवती ने बच्चे को जन्म दिया तो हुआ खुलासा, पिता एक साल से कर रहा था दुष्कर्म

यह भी पढ़ें:  आर्थिक पैकेज से फाउंड्री इंडस्ट्री को मिलेगी गति, उद्यमी बोले- मुश्किल घड़ी में मिला सहारा

यह भी पढ़ें: पंजाब में नशा तस्करी: तीन साल में 47 पुलिस कर्मी बर्खास्त, 17 निलंबित

यह भी पढ़ें: समय के साथ हाथों को भी सैनिटाइज करेगी यह Hand care watch, पहननेे में भी है आसान

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस