पानीपत, जागरण टीम। Kisan Rail Roko Andolan Live Update: किसान संगठनों ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ रेल रोकने का एलान कर दिया था। हरियाणा के पानीपत, कैथल, करनाल, कुरुक्षेत्र, जींद, यमुनानगर, अंबाला में रेल रोको आंदोलन के तहत ट्रेनें रोक दी गई थीं। हालांकि शाम चार बजते ही आंदोलनकारी ट्रैक से हट गए और ट्रेनों को संचालन शुरू किया गया। 

किसान संगठनों ने बताया कि आंदोलन को सफल बनाने के लिए ड्यूटी निर्धारित कर दी गई थी। वहीं लखीमपुर खीरी मामले में अभी तक राज्‍यमंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्‍त नहीं किया गया था। इसके विरोध में यह कार्यक्रम पहले से ही घोषित था।

पानीपत में किसान टीडीआइ पुल के नीचे धरने पर बैठे हैं। वहीं, रेलवे स्‍टेशन में तीन ट्रेनें रोकी गई हैं। पानीपत रोडवेज ने एक बस रेलवे स्टेशन पर लगाई है। जो सवारियों को बस अड्डे तक फ्री ले जा रही है। चंडीगढ़ से दिल्ली जा रही जनशताब्दी, जय नगर से चंडीगढ़ जा रही हमसफर और दिल्ली कुरुक्षेत्र पैसेंजर ट्रेन को पानीपत रेलवे ट्रैक पर रोका गया है।

जींद के नरवाना में जम्‍मूतवी एक्‍सप्रेस ट्रेन को रोका गया। 

जींद में चार जगह रेलवे ट्रैक पर बैठे किसान

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान संगठनों ने उचाना, बरसोला, जुलाना और नरवाना में ट्रैक जाम कर दिए हैं। सुबह 10 से चार बजे तक आंदोलनकारी किसान रेलवे ट्रैक पर धरना देंगे। सुबह सवा 10 बजे जम्मू तवी एक्सप्रेस दिल्ली की तरफ जाती है। 11 बजे इंटरसिटी एक्सप्रेस पुरानी दिल्ली की तरफ जाती है। दोपहर सवा एक बजे कुरुक्षेत्र से जींद पैसेंजर ट्रेन पहुंचती है। वहीं दिल्ली की तरफ से आने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस दोपहर तीन बजकर 20 मिनट पर जींद जंक्शन पहुंचती है। ट्रैक बाधित होने के कारण ये ट्रेन नहीं आ पाएंगी। किसानों के रेल रोको आंदोलन के चलते प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए हैं। चारों रेलवे स्टेशन पर पुलिस तैनात है। ताकि कोई शरारती तत्व रेलवे की संपत्ति को नुकसान ना पहुंचा सके।

जींद: जींद में दिल्ली फिरोजपुर रेलवे लाइन पर उचाना में धरने पर आंदोलनकारी बैठ गए हैं।

कुरुक्षेत्र: अंबाला रेलवे स्टेशन पर ट्रक बंद दिया है। इसके चलते रेलवे स्टेशन कुरुक्षेत्र पर पठानकोट सुपर फास्ट फास्ट और सचखंड सुपर फास्ट ट्रेन को रोक दिया गया है। यात्री सड़क मार्ग से अपने गंतव्य को रवाना होने लगे। कुछ यात्री रेलवे स्टेशन पर ही हैं।

अंबाला: रेलवे ट्रैक पर आंदोलनाकरियों के बैठने की वजह से रेलवे ने नई दिल्‍ली कालका शताब्‍दी ट्रेन को अंबाला छावनी में रोक दिया है। साथ ही सुरक्षा कर्मी भी मुस्‍तैद हैं। 

ट्रेन रुकने के आधे घंटे बाद रेलवे ट्रैक पर बैठे किसान

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना के विरोध में सोमवार को संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने सुबह 10 से लेकर शाम चार बजे तक रेल रोका अभियान चलाने की घोषणा की थी। लेकिन भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने एक घंटा लेट 11 बजे रेलवे स्टेशन कुरुक्षेत्र के अंदर प्रवेश किया। वहीं ट्रेन रुकने के आधे घंटे बाद रेलवे ट्रैक पर किसान बैठे। इसी दौरान यात्री भी ट्रेनों से उतरकर किसानों के साथ आकर ट्रैक पर खड़े होकर किसानों का समर्थन किया। यात्रियों ने कहा कि यात्री की तौर पर उन्हें थोड़ी बहुत परेशानी हुई है। लेकिन एक नागरिक के तौर पर वे तन-मन से किसानों के साथ है। सरकार को किसानों की सभी मांगे मानकर आंदोलन को खत्म करवाने का काम करना चाहिए।

अंबाला दिल्ली रेल मार्ग पर शाहपुर गांव के पास फाटक पर बैठे आंदोलनकारी। इससे पहले नई दिल्ली से कालका जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस, अमृतसर से नांदेड जाने वाली सचखंड एक्सप्रेस को निकाल दिया गया था। फाटक पर जीआरपी आरपीएफ और जिला पुलिस मौजूद है।

कैथल : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर आंदोलनकारी किसान नए बस स्टैंड के समीप स्थित न्यू कैथल रेलवे हाल्ट पर ट्रैक पर बैठेंगे। इस प्रदर्शन की अध्यक्षता होशियार गिल व भरत सिंह बेनिवाल संयुक्त रूप से करेंगे। यह पहले हनुमान वाटिका में एकत्रित हाेंगे। जिसके बाद रेलवे ट्रैक पर पहुंचेगे।

कुरुक्षेत्र : कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर रोकी जाएगी ट्रेन। फिलहाल तीन चार किसान ही पहुंचे।


यमुनानगर: यमुनानगर में बाईपास गांव फूसगढ़ के पास किसान ट्रेन रोकेंगे। अभी तक किसान नहीं पहुंचे हैं। हल्की बरसात हो रही है।

कुरुक्षेत्र रेलवे स्‍टेशन पर मोर्चा संभाले पुलिसकर्मी।

तीन कृषि कानूनों का रद करने की मांग पर आंदोलनकारी देशभर में 18 अक्टूबर को रेल रोका आंदोलन का एलान किया गया था। इसके तहत अलर्ट जारी कर दिया गया है। अंबाला रेल मंडल ने भी अपनी तैयारियां कर ली हैं। इसके तहत मंडल के 13 स्टेशनों पर अलर्ट दिया गया है। सुबह दस बजे से लेकर सायं चार बजे तक आंदोलन चलेगा।

आंदोलनकारियों के रेल रोकने की घोषणा के बाद अंबाला रेल मंडल की तरफ से अलर्ट जारी कर दिया गया है। मंडल के 13 स्टेशन सहित रेलवे ट्रेक पर सुबह 10 से सायं 4 बजे तक प्रदर्शन को देखते हुए रेलवे सुरक्षा बल और राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) को चौकसी बरतने के निर्देश देते हुए ड्यूटियां लगा दी गई हैं।

आंदोलनकारियों ने अंबाला मंडल के जगाधरी वर्कशाप, यमुना जगाधरी, लालडू, दप्पर, डबलान, खन्ना, अहमदगढ़, चंडी मंदिर सेक्शन, दराजपुर और पटियाला में रेल रोकने की घोषणा कीहै। साथ ही रेलवे सुरक्षा बल और जीआरपी को अपने अपने क्षेत्र में बैरक और सेक्शन फोर्स के साथ मुस्तैद रहने के निर्देश जारी हुए हैं।

आरपीएफ और जीआरपी सुबह 9 से सायं 5 बजे तक प्रदर्शन स्थल से लेकर रेलवे ट्रैक पर मुस्तैद रहेगी। जीआरपी अंबाला एसएचओ बिलायती राम ने बताया कि अभी अभी सूचना मिली है कि आंदोलन कारियों ने अंबाला दिल्ली रेल मार्ग पर शाहपुर रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन करने का ऐलान किया है, जिसे देखते हुए 150 जवान और जीआरपी के डीएसपी सहित अन्य आलाधिकारी मुस्तैद हैं। आरपीएफ ने भी आंदोलनकारियों की घोषणा के बाद किसी भी स्थिति से निपटने की सभी तैयारियां पूरी कर ली है। आरपीएफ के जवानों ने रात से ही रेल ट्रैक की निगरानी शुरू कर दी है।

दूसरी ओर आंदोलन के चलते ट्रेनों से रोजाना आवाजाही करने वाले यात्री परेशान होंगे। इन यात्रियों को अपने स्तर पर व्यवस्थाएं करनी होंगी। सोमवार को कामकाजी दिन है और कार्यालयों के लिए आने-जाने वाले यात्री परेशान होंगे।

Edited By: Anurag Shukla