पानीपत/करनाल, जेएनएन। एक सांप को देखकर तो लोगों के होश उड़ जाते हैं। जब पता चले कि एक के बाद एक 11 सांप इस घर में हैं तो सोचिए क्या होगा। जी हां, ये सच है। करनाल में एक घर से एक के बाद एक 11 सांप निकले। वह भी छह फुट लंबे। सभी सांप तूड़ी यानी भूसे में छिपे थे।

असंध क्षेत्र के खिजराबाद रोड पर एक डेरा पिंडोरिया पर बने घर में भूस के गोदाम से एक साथ 11 सांप देखने से हड़कंप मच गया। आनन-फानन में डेरा मालिक ने हरियाणा के स्नेकमैन सतीश फफड़ाना को फोन पर सांप होने की सूचना दी। इसके बाद मौके पर पहुंचे स्नेकमैन ने सांपो को काबू किया और अपने साथ ले गए। 

snake

एक साथ तीन सांप पकड़ में आए

स्नेकमैन सतीश ने बताया कि डेरे के मालिक ने उन्हें सूचना दी कि उनके डेरे पर सांप हैं। जब वह पहुंचे तो उन्होंने देखा एक से ज्यादा सांप हैं। पहले एक साथ तीन सांप पकड़े। अपने साथी के साथ मिलकर सांप पकडऩे शुरू किए तो एक के बाद एक 11 सांप एक जगह से निकले। उन्होंने बताया कि यह भूस का गोदाम था जहां पशु भी बंधे हुए थे। खेत की जगह होने के कारण ही इतने सांप एक जगह एकत्र हुए हैं।

मादा सांप होने की वजह से हुए एकजुट

सतीश ने बताया कि यहां का यह पहला मामला है, जहां लगभग छह फुट तक लंबे 11 सांप मिले। इनमें कोई मादा सांप है, जिसकी वजह से ये एक जगह एकजुट हुए हैं। उन्होंने बताया कि यह रेट स्नेक प्रजाति के सांप हैं, जो इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। ये इतने खतरनाक सांप नहीं हैं। इन्हें किसान मित्र भी बोला जाता है। उन्होंने कहा कि यह सांप मनुष्य पर पांव रखे जाने के बाद ही वार करता है। वार के समय अपने दांत घाव में छोड़ देता है, जिससे कई बार इन्फेक्शन हो जाता है। उस दौरान सावधानी बरतने की जरूरत होती है। 

 snake

जंगल में ले जाकर छोड़ा

स्नेकमैन सतीश इन गांवों को असंध के जंगलों में ले गए। वहां जाकर सभी सांपों को एक साथ छोड़ दिया गया। सतीश ने कहा, प्रकृति के संतुलन के लिए जीव जंतुओं को मारना सही नहीं होता है। वैसे भी रेट स्नेक तो किसान मित्र सांप है। ऐसे में इन्हें मारना नहीं चाहिए। उन्‍होंने बताया कि रेट स्‍नेक चूहा खाते हैं। इनमें विष नहीं होता है। 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस