चंडीगढ़ [दयानंद शर्मा]। Punjab and Haryana High Court ने एक पारिवारिक विवाद में पति की मांग पर Family Court के तलाक के फैसले को सही ठहराते हुए महिला की याचिका खारिज कर दी। Family Court के फैसले के खिलाफ महिला की ओर से हाई कोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान पति की तरफ से बताया गया कि वह भारतीय वायु सेना में गुजरात में तैनात है।

याचिकाकर्ता ने कहा कि उसका विवाह मार्च 2011 में हुआ था। इसके बाद वह अपने परिवार को गुजरात ले जाना चाहता था। मगर उसकी सास ने परिवार को साथ ले जाने नहीं दिया। कुछ दिन बाद उसका साला उसकी पत्नी को गुजरात उसके पास छोड़कर चला गया। पति ने कहा कि उसकी पत्नी क्रूर स्वभाव की है। वह कर्तव्य का सही ढंग से निर्वाह नहीं कर रही। उसकी पत्नी उसके लिए करवा चौथ का व्रत भी नहीं रखती और उसके परिवार के साथ दिवाली जैसे त्योहार भी नहीं मनाती।

यह भी पढ़ें : Domestic violence law में भेदभाव पर High Court चिंतित, कहा- शिकायत पर ही पुरुष को क्यों मान लिया जाता है दोषी

पति ने कहा कि इतना ही नहीं जब उसके दोस्त उसके घर आए तो पत्नी ने उनको खाना देने से भी मना कर दिया। एक बार उसने आत्महत्या करने की भी कोशिश की। पत्नी ने उसके व उसके परिवार के खिलाफ पुलिस स्टेशन बेरी (झज्जर) में एक केस भी दर्ज करवा दिया था। हालांकि बाद में कोर्ट ने उनको बरी कर दिया था।

इसके अलावा जबसे उसका विवाह हुआ है, उसकी पत्नी ने उसके परिवार वालों के प्रति नकारात्मक रवैया अपना रखा है। पत्नी उसकी व उसके परिवार की इज्जत खत्म करने पर तुली हुई है। उसकी पत्नी उसे कई बार सार्वजनिक रूप से बेइज्जत कर चुकी है। पति की दलीलों को सही मानते हुए हाई कोर्ट ने Family Court के फैसले को बरकरार रखा है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस