नई दिल्‍ली, जेएनएन। दिल्ली-हरियाणा सीमा पर पिछले छह माह से चल रहे किसान संगठनों के धरनास्थल पर बढ़ती हिंसक और अनैतिक वारदातों को लेकर केंद्र और हरियाणा सरकार सख्ती के मूड में है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि किसान आंदोलन यदि ऐसे ही हिंसक और अनैतिक रहा तो कार्रवाई होगी। उन्‍होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया है। आंदोलन शा‍ंतिपूर्ण तरीके से चले तो कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन जिस तरह की हिंसा और अनैतिक कार्य हो रहे हैां उसे सहन नहीं किया जा सकता है।

किसान संगठनों के धरनास्थल पर हिंसक और अनैतिक वारदातों को लेकर सख्ती के मूड में सरकार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नई दिल्‍ली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। किसान संगठनों के हरियाणा की सीमा में धरनास्थलों कुंडली और टीकरी बार्डर पर अब तक हुई आपराधिक वारदातों का फीडबैक लेकर खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुरुवार शाम केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मिले। इसके बाद मीडिया से बातचीत  उन्होंने कहा, हरियाणा में किसान आंदोलन के नाम पर हिंसा और अनैतिक कार्य को सहन नहीं किया सकता है। चाहे सिंघू बार्डर हो या टिकरी बार्डर दोनों जगह आंदोलन के नाम पर अनैतिक कृत्‍य और हिंसा हो रही है। लगातार इससे तरह की घटनाएं सामने आ रही हैं और यह स्थिति बेहद गंभीर हैं। इसे किसी सूरत में बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा।

मनोहर लाल ने गृहमंत्री अमित शाह को दिया अब तक हुई वारदातों का फीडबैक

सीएम ने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर जिस तरह हिंसा और गतिविधियों की जा रही है उससे इन क्षेत्रों के आसपास के गांवाें के लाेग काफी परेशान हैं। लोग अब आवाज भी उठा हैं। ऐसे में सरकार हरियाणा का माहौल खराब नहीं होने दी सकती है। य‍दि हिंसा नहीं रुकी तो कार्रवाई की जाएगी।

केंद्र का इशारा मिलते ही असामाजिक तत्वों पर कभी भी कड़ी कार्रवाई कर सकती है हरियाणा सरकार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने साफ किया कि किसान संगठनों का आंदोलन शांतिपूर्वक चले तो सरकार को कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन पिछले कुछ माह में धरनास्थल पर लगातार हिंसक वारदात हुई हैं। आंदोलन के नाम पर धरनास्थल आईं महिलाओं के साथ अनैतिक कार्यों की फेहरिस्त सरकार के सामने आई है। इसे सरकार किसी भी सूरत में नजरांदाज नहीं कर सकती।

सीएम ने कहा कि उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह को आंदोलन के नाम पर असामाजिक तत्वों की आपराधिक गतिविधियों के बारे में विस्तृत रिपोर्ट दे दी है। इस रिपोर्ट के आधार पर यह भी कहा जा सकता है कि अब किसान संगठनों का धरनास्थल आपराधिक गतिविधियों का गढ़ बन गया है। सरकार के पास ऐसे भी तथ्य हैं कि धरनास्थल पर पिछले कई माह में अनेक महिलाओं के साथ दुराचार हुआ।

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने बताया कि किसान संगठनों को केंद्र व राज्य सरकार ने बार-बार बातचीत के बुलाया है। कोरोना जैसे बड़े संकट काल में किसान संगठनों से आंदोलन खत्म करने का आग्रह किया गया। लेकिन, किसान संगठनों ने सरकार के हर आग्रह की अनदेखी की है। धरनास्थल पर चल रही आपराधिक गतिविधियों के चलते आसपास के गांवों और शहर में रहने वाले लोगों में खासा गुस्सा है। सीएम ने कहा कि हमने केंद्र सरकार को अपनी रिपोर्ट दे दी है। अब तक हुई आपराधिक गतिविधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की गई है मगर राज्य सरकार को आगे की कार्रवाई के लिए केंद्र के निर्णय का इंतजार है।

सीएम मनोहरलाल ने भाजपा-जजपा सरकार के छह सौ दिन पूरे होने पर कांग्रेस नेताओं की बयानबाजी पर पलटवार किया। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने अपनी शासन मेें राज्‍य का बुरा हाल कर दिया था और गठंबधन सरकार राज्‍य का बिना किसी भेदभाव के विकास कर रही है तो इनको सहन नहीं हो रहा है।

भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा के साथ हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज।

मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल के साथ ही हरियाणा के गृह एवं स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज भी दिल्‍ली गए हैं। विज ने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा सहित कई केंद्रीय नेताओं से  मुलाकात की। विज ने उनको हरियाणा में किसान आंदोलन से पैदा हालात और कोराेना की स्थिति के बारे में जानकारी दी।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Edited By: Sunil Kumar Jha