जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा के मॉनसून सत्र की कार्यवाही दो दिन के अवकाश के बाद सोमवार काे दाेपहर बाद शुरू हुआ। सदन में सत्‍ता पक्ष और विपक्ष नोकझोंक हुई। पहले एसवाईएल और पदक विजेता खिलाडियों को कैश अवार्ड पर हंगामा हुआ। और सत्‍ता पक्ष व विपक्ष के सदस्‍यों ने एक-दूसरे पर हमला किया। सरकार ने घोषणा की, कि एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले हरियाणा के खिलाडि़याें को नकद पुरस्‍कार दिया जाएगा। दूसरी ओर, सदन की कार्यवाही शुरू हाेने से पहले इंडियन नेशनल लाेकदल के विधायकों ने विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के विधायकों ने भी सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया।

इनेलो ने सदन में एसवाईएल नहर निर्माण पर काम रोको प्रस्ताव रखा। स्‍पीकर ने कंवरपाल गुज्‍जर ने मामले के अदालत में विचाराधीन होने की बात कह कर इस प्रस्‍ताव को नामंजूद कर दिया। इस पर इनेलो के सदस्‍यों ने नारेबाजी करनी शुरू कर दी। नेता विपक्ष अभय चौटाला ने सरकार पर मामले को लटकाने का आरोप लगाया। अभय ने कहा कि कोई मामला अदालत में नहीं। सरकार इस मुद्दे को लेकर गंभीर नज़र नही आ रही है। अभय चौटाला काफी देर तक स्पीकर से बहस करते हुए नज़र आए। स्पीकर ने विधानसभा की नियमावली दिखाई और कहा कि पिछली बार इस विषय पर चार घंटे चर्चा करवा चुके हैं।

कांग्रेस ने भी अपने मुद्दे उठाते हुए प्रस्तावों पर चर्चा की मांग की।  कांग्रेस के सदस्य भी सदन के वेल तक पहुंच गए। इसी दौरान वित्‍त मंत्री कप्तान अभिमन्यु की एक टिप्पणी से इनेलो के विधायक भड़क गए और विधायक स्पीकर के आसन के सामने पहुंच कर नारेबाजी करने लगे। इस दौरान भाजपा विधायकों ने भी विपक्ष पर पलटवार किया। नारेबाजी के कारण सदन में हंगामे की स्थिति पैदा हो गई।

विधानसभा की कार्यवाही में भाग लेने जाते सुभाष बराला अौर भाजपा विधायक डाॅ. कमल गुप्‍ता।

सदन में एशियाई खेल के पदक विजेता खिलाड़ियों का मुद्दा गूंजा। विधायकों ने पदक विजेता खिलाडि़यों को नकद पुरस्‍कार और सरकारी नौकरी का मुद्दा उठाया। इस पर खेल मंत्री अनिल विज ने कहा कि एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले हरियाणा के सात खिलाड़ियों को तीन-तीन करोड़ और एचसीएस व एचपीएस की नौकरी मिलेगी। रजत पदक जीतने वाले हरियाणा के खिलाड़ियों को क्लास वन की नौकरी और डेढ़ करोड़ रुपये  दिए जाएंगे। कांस्य पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को सरकार बी श्रेणी की नौकरी और 75 लाख रुपये देगी।

इस दौरान सदन में खिलाड़ियों पर सियासत साफ नजर आया। खेल मंत्री अनिल विज ने पदक विजेताओं के बारे में जानकारी देते हुए सरकार की खेल नीति का महिमामंडन किया तो विपक्षी सदस्यों ने इस पर एतराज किया। इस पर सत्‍ता पक्ष भाजपा और विपक्ष के विधायकों में जमकर नोकझोंक हुई। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा,  कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी, इनेलो के नसीम अहमद ने सरकार पर हमला बोला ताे कैबिनेट मंत्री कैप्टन अभिमन्यु खेल मंत्री के पक्ष में सामने अाए।

हरियाणा विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते कांग्रेस विधायक।

हुड्डा ने यहां तक कहा कि सरकार का खिलाड़ियों के प्रति रवैया खराब रहा है। इससे पहले किरण चौधरी ने अपनी बात रखी तो विज ने कांग्रेस विधायकों की तरफ देखते हुए पूछा कि आपको खिलाड़ियों के पदक जीतने पर खुशी है कि नहीं।

शोरगुल के बीच मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इंडियन नेशनल लोकदल के विधायक हरीचंद मिड्ढा के निधन का उल्लेख करते हुए उनके द्वारा सदन में पूछे गए सवालों को शामिल करने की नई परंपरा डालने की बात कही लेकिन इसी दौरान कांग्रेस के विधायक अपनी सीटों पर खड़े बोलते हुए नजर आए। विपक्ष ने इसी दौरान विभिन्न मुद्दों पर दिए गए स्थगन प्रस्ताव पर रूलिंग मांगी और मुद्दे उठाए। इस पर भाजपा सदस्यों ने भी किया पलटवार।

स्पीकर कंवरपाल गुज्जर ने सदस्‍यों की बातों के बीच प्रश्नकाल पर ध्यान देने की बात कही। इसके बाद प्रश्नकाल शुरू हुआ। सदन में किसानों और बाजरा खरीद के विधायक अभय यादव के सवाल पर सत्‍ता पक्ष व विपक्ष के सदस्‍यों में नोेंकझोंक हुई। कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि हरियाणा सरकार 1950 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बाजरा खरीदेगी। जितना बाजरा मंडी में आएगा उतना सरकार खरीदेगी।

हरियाणा विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते इनेलो के विधायक।

प्राइमरी स्कूलों में अंग्रेज़ी की क्लास शुरू करने के मुद्दे पर मंत्री रामबिलास शर्मा की ग़ैर मौजूदगी के कारण कृषि मंत्री आेमप्रकाश धनखड़ ने सदन में जवाब दिया। विपक्ष के नेता अभय चौटाला ने खाली पड़े टीचरों के पद का मुद्दा उठाया। पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल ने कांग्रेस शासनकाल के दौरान इस संबंध में उठाए गए कदमों का उल्लेख किया। किरण चौधरी ने पूर्व मुख्‍यमंत्री चौधरी बंसीलाल के गांव गोलागढ़ के स्कूल का मुद्दा उठाया।

Posted By: Sunil Kumar Jha