चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी राज्यसभा की तीनों सीटों पर चुनाव लड़ेगी। दो सीटों पर पार्टी ने राज्य में पिछड़ा वर्ग के नेता रामचंद्र जांगड़ा और दिल्ली के रहने वाले अनुसूचित जाति से संबंधित पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दुष्यंत गौतम को उम्मीदवार घोषित कर दिया है। दूसरी ओर, कांग्रेस एक सीट के लिए उम्‍मीदवार उतारेगी। इसके लिए उम्‍मीदवार को लेकर खींचतान के बाद देर रात दीपेंद्र सिंह हुड्डा को कांग्रेस ने अपना उम्‍मीदवार बनाने का एेलान किया।

बता दें कि हरियाणा में राज्‍यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं। विधानसभा में विधायकों के संख्‍या बल के आधार पर सत्‍ताधारी भाजपा गठबंधन दो सीटें जीत सकती है तो कांग्रेस एक सीट पर कब्‍जा कर सकती है। भाजपा ने आज दोपहर हरियाणा से अपने दो उम्‍मीदवारों की घोषणा की। पार्टी ने दुष्यंत कुमार गौतम और रामचंद्र जांगड़ा को टिकट देने की घोषणा की।

दुष्‍यंत कुमार गौतम अनुसूचित जाति वर्ग से है। वह भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष रहे हैं और वर्तमान में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। उनको राज्‍यसभा का टिकट देकर भाजपा ने हरियाणा में दलित कार्ड खेला है। राज्‍य में दलित वोट बैंक बहुत महत्‍वपूर्ण हैं और इस पर सभी दलों की नजर रही है।

इसके साथ ही भाजपा ने रामचंद्र जांगड़ा को अपना दूसरा उम्‍मीदवार बनाया है। वह पिछड़े वर्ग के प्रमुख नेताओं में शामिल हैं। वह पिछली बार भी राज्यसभा चुनाव में भाजपा टिकट के प्रमुख दावेदारों में शामिल थे। रामचंद्र जांगड़ा को राज्‍यसभा भेजकर भाजपा दलित वोट बैंक को साधने की कोशिश में है।

दोनों शुक्रवार को चंडीगढ़ में हरियाणा विधानसभा में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। भाजपा ने फिलहाल तीसरी सीट के लिए उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। संभवतया अभी पार्टी के रणनीतिकार कांग्रेस के उम्मीदवार के इंतजार में थे। अब उम्‍मीद की जा रही है कि तीसरी सीट के लिए भाजपा-जजपा के संयुक्‍त उम्‍मीदवार की शुक्रवार सुबह घोषणा की जाएगी।

ये तीनों सीट इनेलो से राज्यसभा सदस्य रामकुमार कश्यप के भाजपा में शामिल होने व इंद्री से विधायक चुने जाने, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा का कार्यकाल पूरा होने और पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह के इस्तीफा देने के कारण खाली हुई हैं। राज्यसभा में खाली हुई कश्यप और सैलजा की सीट पर भाजपा ने पिछड़ा और अनुसूचित जाति के नेताओं को चुनाव मैदान में उतारा है।

-------------

बुधवार सायं से ही दुष्यंत गौतम को मिलने लगी थीं बधाइयां

दिल्ली में सक्रिय राजनीति करने वाले भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दुष्यंत गौतम का नाम बुधवार सायं ही राज्यसभा के लिए सामने आया। तभी से उन्हें बधाइयां मिलने लगी थीं। हालांकि वे अपने ट्विटर एकाउंट पर भी बधाइयां स्वीकारने के लिए तभी सक्रिय हुए जब पार्टी ने उनका नाम घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें: राज्‍यसभा चुनाव की उम्‍मीदवारी में हुड्डा ने दी सैलजा को मात, दीपेंद्र को मिला कांग्रेस टिकट

दुष्यंत गौतम का नाम पार्टी के केंद्रीय नेताओं की पसंद है जबकि रामचंद्र जांगड़ा का नाम मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिया है। मुख्यमंत्री 2018 के राज्यसभा चुनाव में भी जांगड़ा को उम्मीदवार बनवाना चाहते थे, मगर तब उनकी जगह केंद्रीय नेतृत्व ने सेवानिवृत्त जनरल डॉ. डीपी वत्स का नाम आगे कर दिया था।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

यह भी पढ़ें: हरियाणा कांग्रेस पर भी Scindia Effect, कुलदीप बिश्‍नोई ने दी पार्टी नेतृत्‍व को नसीहत

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस