राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गांव और शहरों में सात हजार से अधिक गरीब तथा आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों को जल्द ही मकान मिलेंगे। यह आवास बनकर तैयार हो चुके हैं। इसके अलावा साढ़े 13 हजार से अधिक मकानों का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। प्रदेश में इस साल 20 हजार परिवारों को सस्ते आवास उपलब्ध कराए जाने हैं।

नवगठित हाउसिंग फार आल विभाग की निगरानी में बनाए जाने वाले मकानों के लिए हाउसिंग बोर्ड को जिम्मा सौंपा गया है। विभिन्न श्रेणियों में 4716 मकानों का निर्माण कार्य चल रहा है। इनमें से 637 मकान आर्थिक रूप से कमजोर लोगों, 3716 मकान बीपीएल तथा 363 मकान अन्य वर्गों को दिए जाएंगे। फरीदाबाद में बीपीएल परिवारों के लिए करीब 1800 मकान बनकर तैयार हो चुके हैं, जबकि 1500 से अधिक मकान निर्माणाधीन हैं। वहीं, डिफेंस स्कीम के तहत पंचकूला में 44, हांसी में 532 और सोनीपत में 336 मकान पात्र परिवारों को अलाट किए जा चुके हैं।

हरियाणा सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए बने उन मकानों को भी सामान्य श्रेणी के लोगों को खरीदने की मंजूरी दे दी है जो बिक नहीं पा रहे। ई-नीलामी के जरिये इन फ्लैट को खरीदा जा सकेगा। पूर्व में हाउसिंग बोर्ड की ओर से आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए अधिकतर जिलों में हजारों मकान बनाए गए थे। कुछ लोगों ने इन मकानों को छोटा तो कुछ ने महंगा और शहरी आबादी से दूर बताते हुए खरीदने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। अब बनाए जा रहे नए मकान काफी सुविधाजनक और आधुनिक सुविधाओं से युक्त होंगे। ई-नीलामी के तहत आवंटित फ्लैटों में पीएमएवाई-सीएलएसएस स्कीम के तहत बैंक द्वारा 2.67 लाख रुपये की सब्सिडी देने का प्रविधान बरकरार रहेगा।

तैयार आवासों की अब रोजाना ई-नीलामी

प्रदेश में बनकर तैयार हो चुके आवासों की अब रोजाना ई-नीलामी की जाएगी। हाउसिंग बोर्ड की ओर से गुरुग्राम के सेक्टर 106 गांव पवाला खूसरपुर में जेसीओ रैंक तक और उनके समकक्ष सेवारत सैनिकों, पूर्व सैनिकों, अर्धसैनिक कर्मचारियों, उनकी विधवाओं तथा उनके अनाथ बच्चों के लिए टाइप-बी के 150 बहुमंजिले फ्लैट बनाए जा रहे हैं। गुरुग्राम में ही ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के लिए बन रहे 1719 फ्लैट के पोजेशन के लिए दी जाने वाली अलाटमेंट मनी 31 जुलाई तक जमा कराई जा सकती है।

Edited By: Kamlesh Bhatt