राजेश मलकानियां, पंचकूला : पिछले पांच साल से सेक्टर-12ए और 20 के बीच फ्लाईओवर बनाने का लॉलीपॉप मिलता रहा। रोजाना हजारों लोग अंडरपास के जाम में फंसते हैं। इस चुनाव में अंडरपास का मुद्दा भी गर्माने वाला है। जीत की गाड़ी को इस जाम से निकालना सभी के लिए बड़ी चुनौती है। कांग्रेस विधायक स्व. डीके बंसल के समय में इस अंडरपास पर फ्लाईओवर बनाने की आवाज उठने लगी थी लेकिन मामला हल नहीं हुआ। भाजपा के विधायक ज्ञानचंद गुप्ता ने अपने चुनावी एजेंडे में प्रमुखता से वादा किया था। परंतु पांच साल में फ्लाईओवर बनने की दिशा में बयानबाजी का बाजार गर्म रहा। जीरकपुर-कालका फ्लाईओवर के नीचे सेक्टर-12ए और सेक्टर-20 को जोड़ने वाले रास्ते पर ट्रैफिक जाम की समस्या ज्यों की त्यों बरकरार है। फ्लाईओवर के नीचे आने-जाने के लिए ट्रैफिक लाइट्स पर दिनभर जाम लगता है। खासतौर पर सुबह 8 से 10 बजे, दोपहर 2 से 3, शाम को 5 से 8 बजे तक स्थिति ज्यादा खराब होती है। फोर व्हीलर्स वालों को फ्लाईओवर से नीचे का रास्ता पार करने में 15-20 मिनट लग जाते हैं। कई बार तीन या चार बार ग्रीन लाइट होने पर फ्लाईओवर से निकलने की बारी आती है। जुलाई 2015 में जब यह मुद्दा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के समक्ष रखा गया था तो उन्होंने एनएचएआइ के अफसरों को जाम की समस्या का समाधान कराने को कहा था। इन निर्देशों के बावजूद एनएचएआइ के अफसर इस मसले को टाल रहे थे। उनका तर्क था कि फ्लाईओवर एक जाल की तरह होता है जोकि करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद एक बार बनने पर इसके नीचे अंडरपास बनाना संभव नहीं है। सेक्टर-20 में सौ से ज्यादा ग्रुप हाउसिग सोसायटीज बढ़ रही हैं। रोजाना होता है 50 हजार वाहनों का आवागमन

सेक्टर-20 के साथ पीरमुछल्ला भी तेजी से ग्रो कर रहा है। कई ग्रुप हाउसिग सोसायटीज बन चुकी हैं और कुछ बन रही हैं। सेक्टर-20 और पीरमुछल्ला में बीते कुछ साल में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। पंचकूला के विभिन्न सेक्टरों से सेक्टर-20, 21, पीरमुछल्ला, ढकौली, जीरकपुर-डेराबस्सी जाने के लिए यही रास्ता है। सेक्टर-12 ए और 20 के बीच फ्लाईओवर के नीचे आने-जाने के लिए बने इस रास्ते से रोजाना करीब 45 से 50 हजार व्हीकल्स का आना-जाना होता है। इससे फ्लाईओवर के नीचे ट्रैफिक जाम की समस्या भी बदतर हो रही है। अभी तक आश्वासन ही मिले

लोगों को पिछले 8-10 साल से जल्द ही इस समस्या का समाधान होने के आश्वासन मिल रहे हैं लेकिन उन्हें जाम से निजात नहीं मिल पाई है। दो साल पहले सेक्टर-12ए और 20 सहित कई जगह एमएलए ज्ञानचंद गुप्ता ने होर्डिग्स लगाकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का इस समस्या से निजात दिलाने के लिए आभार भी व्यक्त कर दिया था। उनके कार्यकाल के भी साढ़े चार साल बीत चुके हैं लेकिन समस्या का समाधान कागजों तक ही सीमित है। सीएम से लगाई जाएगी गुहार

विधायक ज्ञानचंद गुप्ता का कहना है कि एलिवेटेड ब्रिज की अप्रूवल के लिए सीएम से मिला जाएगा। जल्द अप्रूवल दिलाने की कोशिश रहेगी। यह प्लानिग पाइपलाइन में पिछले लगभग ढाई साल से

सेक्टर-12 और 12ए की डिवाइडिग रोड से फ्लाईओवर के ऊपर एलिवेटेड ब्रिज बनाकर इस समस्या का जल्द हल कराने की बात हो रही है। अब प्लान तैयार किया गया है कि सेक्टर-12ए और 20 के बीच आने जाने वाले लोगों को रोजाना लगने वाले ट्रैफिक जाम से निजात दिलाने के लिए नेशनल हाईवे 5 पर एलिवेटेड ब्रिज बनाया जाएगा। इससे सेक्टर-12 और 12ए की तरफ से जाने वाले लोग इस एलिवेटेड ब्रिज से होते हुए सेक्टर-20 में उतर सकेंगे। टू और फोर व्हीलर्स के लिए एलिवेटेड ब्रिज बनाने के साथ पैदल चलने वाले लोगों की सुविधा के लिए फ्लाईओवर पर दो फुटब्रिज भी बनाए जाएंगे। इसके साथ ही एक्सेलेरेटर की भी सुविधा होगी जिसे पार कर लोग सेक्टर-12, 12ए और दूसरी तरफ सेक्टर 20 व 21 में आ-जा सकेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस