जेएनएन, चंडीगढ़। इनेलो में चल रही जंग अौर उथल-पुथल के बीच अभय सिंह चौटाला के खेमे को बड़ा झटका लगा है। जुलाना के विधायक परमिंदर ढुल भी खुलकर अजय और दुष्यंत चौटाला के साथ आ गए हैं। इसी के साथ अजय समर्थक विधायकों की संख्या बढ़कर पांच हो गई है। विधायक नैना सिंह चौटाला, अनूप धानक, राजदीप फौगाट और पिरथी नंबरदार पहले ही इनके साथ हैं।

पंचकूला में तीन घंटे तक दुष्यंत के साथ चली परमिंदर ढुल की बैठक

इनेलो विधायकों की संख्या 18 है। जींद के विधायक डाॅ. हरिचंद मिड्ढा का पिछले दिनों देहावसान हो गया था।  पिरथी नंबरदार हालांकि दो दिन पहले तक अभय गुट में थे, लेकिन उन्होंने शुक्रवार को अजय गुट में आस्था जता दी थी। फरीदाबाद के विधायक नागेंद्र भड़ाना का रुख अभी साफ नहीं है और वह अभी भाजपा के करीबी समझे जाते हैं। इस तरह अभय चौटाला के खेमे में उनके समेत अब 12 विधायक रह गए हैैं।

नागेंद्र भड़ाना ने अभी नहीं खोले पत्ते, अभय से बनाए हुए दूरी

फरीदाबाद के विधायक नागेंद्र भड़ाना अभी खुलकर किसी के साथ नहीं आए हैं। अलबत्ता उन्होंने अभय चौटाला से लंबे समय से दूरी बनाकर भाजपा को समर्थन दे रखा है। पार्टी में धीरे-धीरे विधायकों में सेंधमारी का खेल जारी है। ऐसे में विपक्ष के नेता अभय चौटाला का पद खतरे में पड़ सकता है। जुलाना के विधायक परमिंदर ढुल ने शनिवार को पंचकूला में करीब तीन घंटे तक सांसद दुष्यंत चौटाला के साथ बैठक की। ढुल के पुत्र ने शुक्रवार को सिरसा में हुई अभय चौटाला की बैठक में तो शामिल हुए लेकिन बैठक के बाद वह अजय के संपर्क में आ गए थे। शनिवार सुबह परमिंदर सिंह ढुल जुलाना से पंचकूला पहुंचे। वहां उनकी दुष्यंत चौटाला के साथ बैठक हुई।

विधानसभा में जूता प्रकरण से आहत थे परमिंदर ढुल

11 सितंबर को विधानसभा में जब नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला और कांग्रेस विधायक करण सिंह दलाल के बीच जूता प्रकरण हुआ तो परमिंदर ढुल काफी आहत थे। दलाल को बाहर निबटने की चेतावनी देकर सदन से अभय के बाहर आ जाने के बाद ढुल ने ही पूरे मामले को शांत किया था। विवाद और न बढ़े इसके लिए उन्होंने पहले पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को इशारा किया था कि वह करण दलाल को अभी सदन से बाहर नहीं जाने दें। अभय को भी संयम रखने की नसीहत दी थी। ढुल ने तब जागरण से खुशी भी जाहिर की थी कि अभय ने उनकी बात मान ली। उनका कहना था कि यदि दलाल तभी विधानसभा से बाहर आ जाते और वे अभय को नहीं मनाते तो मामला ज्यादा तूल पकड़ सकता था।

जींद उपचुनाव में अपना प्रत्याशी उतारेंगे दुष्यंत चौटाला

जींद उपचुनाव की तैयारियों में जुटे राजनीतिक दलों के लिए दुष्यंत चौटाला नई चुनौती पेश कर सकते हैं। 17 नवंबर को होने वाली प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में जींद उपचुनाव के लिए प्रत्याशी के नाम का एेलान किया जा सकता है। यहां से इनेलो विधायक हरिचंद मिड्ढा विधायक थे, जिनका देहावसान हो गया।

Posted By: Sunil Kumar Jha