चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा में जिस तरह से तब्लीगी जमात के लोग कोरोना से संक्रमित पाए जा रहे हैं, उसे देखकर नहीं लग रहा कि राज्य सरकार पूरे प्रदेश में लाॅकडाउन खत्म करने का फैसला लेगी। वैसे यदि 14 अप्रैल के बाद राज्य में लाॅकडाउन समाप्‍त भी गया तो स्कूल व कालेजों समेत बाकी शिक्षण संस्थान नहीं खोले जाएंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल और शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर इससे सहमत हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य तथा परिवहन विभाग के अधिकारियों की बैठक में अंतिम फैसला जल्द लिया जाएगा।

विद्यार्थियों के वाट्सएप ग्रुप बनाकर उन पर होमवर्क देने के निर्देश

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर के अनुसार प्रदेश के अध्यापकों ने वर्क फ्राम होम शुरू कर दिया है। विद्यार्थियों को अब स्कूलों की तर्ज पर रोजना कम से कम तीन घंटे पढ़ाया जाएगा। फीडबैक के आधार पर इस समयावधि को बढ़ाया भी जा सकता है। कई जिलों में ऑनलाइन लिंक के माध्यम से पढ़ाई की दिक्कतों के बारे में पता चला है। इसके बाद अध्यापकों व अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि बच्चों को होमवर्क देने का काम स्मार्टफोन पर वाट्सएप ग्रुप बनाकर किया जाए। इसके लिए इंटरनेट की कम रेंज भी कारगर है।

12वीं कक्षा के विद्यार्थियों का फैसला जल्द, अधिकारी कर रहे मंथन

शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर के अनुसार आठवीं, नौवीं, दसवीं तथा ग्यारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को प्रमोट करने का फैसला हो चुका है। 12वीं कक्षा के संबंध में बहुत जल्द फैसला कर लिया जाएगा। इसके लिए विभागीय अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को प्रमोट करने अथवा परीक्षा परिणाम के बारे में अधिकारियों द्वारा मंथन किया जा रहा है।

हरियाणा के निजी स्कूलों द्वारा लॉकडाउन के दौरान फीस न लिए जाने के फैसले को दोहराते हुए कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि सरकार द्वारा इस संबंध में पहले ही निर्देश जारी किए जा चुके हैं। फिर भी कोई स्कूल जबरन फीस मांगता है तो उसके विरूद्ध शिकायत आने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की अवधि की स्कूल फीस को माफ करने के संबंध में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। इस फीस की वसूली लॉकडाउन खुलने के बाद की जाएगी अथवा पूरी तरह से माफ होगी, यह फैसला सरकार के स्तर पर बाद में किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Fight against Covid-19: हरियाणा में कोरोना से लड़ रहे चिकित्सकों व नर्सों को डबल वेतन

स्कूली अध्यापकों में वेतन को लेकर चल रहे असमंजस को समाप्त करने हुए शिक्षा मंत्री ने बताया कि किसी भी अध्यापक के वेतन में कटौती नहीं होगी। पहले की तरह सभी को पूरा वेतन दिया जाएगा। उन्होंने स्वीकार किया कि इस बार लॉकडाउन के चलते शिक्षा सत्र प्रभावित हो रहा है। विद्यार्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए आने वाले समय में एक्सट्रा कलास भी लगाई जा सकती है। इसके लिए शिक्षा विभाग पहले से ही तैयार है। उन्होंने कहा कि एक्सट्रा कलास का फैसला ऑनलाइन पढ़ाई के फीडबैक के बाद लिया जाएगा।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें: 'रामायण' के सुग्रीव की अस्थियां लॉकडाउन, रामचरितमानस का पाठ करते समय अचानक हुआ निधन


यह भी पढ़ें: Lockdown में छ‍ह‍ जिलों की पुलिस को चकमा दे स्‍कूटी से 127 किमी पहुंची युवती, प्रेमी को ले गई

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस