जेएनएन, चंडीगढ़। किलोमीटर स्कीम के तहत 700 बसें चलाने की तैयारी के खिलाफ रोडवेज कर्मचारी यूनियनें मुखर हो गई हैं। रोडवेज वर्कर्स ज्वाइंट एक्शन कमेटी और संयुक्त संघर्ष समिति ने चेतावनी दी है कि जिस दिन एक भी बस किलोमीटर स्कीम के तहत सड़कों पर उतरी, उसी समय प्रदेश में रोडवेज बसों का चक्का जाम कर दिया जाएगा।

परिवहन विभाग की योजना अनुबंध आधार पर 700 बसें चलाने की है जिसमें बस और ड्राइवर निजी होगा, जबकि परमिट और परिचालक सरकारी। रोडवेज वर्कर्स ज्वाइंट एक्शन कमेटी इसके विरोध में 5 सितंबर तो संयुक्त संघर्ष समिति 7 अगस्त को बसों का चक्का जाम करने की चेतावनी दे चुकी है। सोमवार को परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार द्वारा किमी स्कीम के तहत बसों का संचालन करने की प्रक्रिया पर स्टेटस रिपोर्ट देने के बाद रोडवेज कर्मचारी यूनियनें और भड़क गईं।

ज्वाइंट एक्शन कमेटी के वरिष्ठ सदस्य हरिनारायण शर्मा, दलबीर किरमारा, अनूप सहरावत, बाबूलाल यादव, जय भगवान कादियान व बलवान सिंह दोदवा ने कहा कि सरकार अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए रोडवेज का निजीकरण करने का प्रयास कर रही है, जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। वहीं, संयुक्त संघर्ष समिति के वरिष्ठ सदस्य वीरेंद्र सिंह धनखड़ और नरेंद्र सिंह दिनोद ने कहा कि किलोमीटर स्कीम के तहत बसों का संचालन शुरू हुआ तो प्रदेश में पंजाब की तरह बस माफिया खड़ा हो जाएगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप