बिजेंद्र बंसल, नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद अब हरियाणा कांग्रेस की सियासी गतिविधियां भी बढ़ सकती हैं। कांग्रेस हाईकमान ने जिस तरह कैप्टन को लेकर बड़ा राजनीतिक फैसला किया उसी तरह अगले कुछ दिनों में हरियाणा कांग्रेस में भी कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है। हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंंह हुड्डा और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षा कुमारी सैलजा के बीच तल्खियां चरम पर हैं। हुड्डा प्रदेश कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल को भी नहीं पसंद करते हैं। उन्हेंं लगता है कि बंसल परदे के पीछे से सैलजा की मदद करते हैं।

गौरतलब है कि हुड्डा गुट पिछले कुछ माह से कुमारी सैलजा को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने के लिए हाईकमान के समक्ष गुहार लगा चुका है। हुड्डा समर्थक 22 विधायक दिल्ली में पार्टी के बड़े नेताओं से मिलकर अपनी बात कह चुके हैं। फिलहाल हुड्डा गुट प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल के बारे में कोई प्रतिकूल टिप्पणी करने बच रहा है। हुड्डा गुट को लगता है कि बंसल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। इस दौरान पार्टी हाईकमान उनकी जगह किसी और नेता को प्रदेश प्रभारी बनाएगा।

हालांकि कांग्रेस हाईकमान भी हुड्डा पर अंकुश लगाना चाहता है, लेकिन दिक्कत यह है कि कांग्रेस के 31 में से 24 विधायक हुड्डा समर्थक हैं। यही कारण है कि कांग्रेस को उनकी बात मानना पड़ती है। प्रदेश कुमारी सैलजा और विवेक बंसल द्वारा तैयार की जिला स्तर के संगठन की सूची भी हुड्डा ने नहीं ओके होने दी। हुड्डा राज्यसभा में कुमारी सैलजा के बजाय अपने बेटे दीपेंद्र हुड्डा भिजवाकर सैलजा को पहले भी झटका दे चुके हैं।

कुमारी सैलजा भी यह जताने में पीछे नहीं रहतीं कि और उनके बीच सब सामान्य नहीं है। कांग्रेस हाईकमान ने पंजाब के सीएम अमरेंदर सिंह से बातचीत करने की जिम्मेदारी भी हुड्डा को सौंपी थी। हुड्डा और कैप्टन दोनों पुराने मित्र हैं। फिलहाल कांग्रेस हाईकमान हरियाणा में हुड्डा को पूरा महत्व दे रहा है। हुड्डा के पुत्र और राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के लिए बनाई स्क्रीनिंग कमेटी का सदस्य भी मनोनीत किया है। इस कमेटी में प्रियंका गांधी भी सदस्य हैं, लेकिन सैलजा और हुड्डा विरोधी अन्य नेताओं को लग रहा है कि कैप्टन को हटाया जाना हुड्डा के लिए संदेश है। उनके मुताबिक कांग्रेस हाईकमान स्वयं को आंख दिखाने वालों को सबक सिखाने का फैसला कर चुका है।

Edited By: Kamlesh Bhatt