जेएनएन, चंडीगढ़। रोहतक की सुनारिया जेल में डेरा मुखी गुरमीत राम रहीम न केवल पूरी तरह से सुरक्षित है, बल्कि स्वस्थ भी है। रोहतक के सेशन जज ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट को यह जानकारी दी। इसके बाद हाई कोर्ट ने डेरे के अस्पताल के ही डॉक्टर मोहित गुप्ता की याचिका को आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया। साथ ही याची पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगा दिया। यह रकम हरियाणा लीगल सर्विस अथॉरिटी के खाते में जमा कराई जाएगी। डॉ. मोहित गुप्ता ने जेल में राम रहीम के जीवन को खतरा बताते हुए याचिका दायर की थी। 

हालांकि याची की ओर से जुर्माना न लगाए जाने का आग्रह किया गया, लेकिन हाई कोर्ट ने कहा कि अगर इस याचिका पर जुर्माना नहीं लगाया गया तो डेरे के हजारों समर्थक हैं जो इसी तरह की याचिकाएं दायर कर सकते हैं। उस पर रोक लगाया जाना बेहद जरूरी है। हाई कोर्ट ने कहा कि जेल अधीक्षक की रिपोर्ट पर सवाल खड़े हो सकते थे। इसीलिए रोहतक के सेशन जज से यह रिपोर्ट मंगवाई गई है। सुनारिया जेल के अधीक्षक ने भी हाई कोर्ट को यही जानकारी दी है। जिस बैरक में डेरा मुखी को रखा गया है, वहां उनकी सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए हैं।

सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने डेरा मुखी के 4 नवंबर को जेल में सेशन जज को दिए बयान को पढ़ा। इसमें डेरा मुखी ने कहा कि वह जेल में पूरी तरह से सुरक्षित है और उसका स्वास्थ्य ठीक है। समय-समय पर स्वास्थ्य की जांच होती है। मेरी सुरक्षा को लेकर याचिका दायर करने वाले डॉ. मोहित को मैं नहीं जानता हूं। न ही मेरी हिदायत से यह याचिका दायर की गई है।

डेरा मुखी ने मांगी वीडियो कॉलिंग की सुविधा

डेरा मुखी ने जेल में मिलने वाली सभी सुविधाओं पर संतुष्टि जताई है, लेकिन साथ ही शिकायत भी कि जेल में उन्हें अपने करीबियों से बातचीत के लिए वीडियो कॉलिंग की सुविधा नहीं दी गई है। उसने बताया कि जेल में रिश्तेदारों से मिलने पर कोई पाबंदी नहीं है और वह अपने वकीलों से मिलते हैं। डेरा मुखी ने कहा कि मुझे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा तो दी है, लेकिन वीडियो कॉलिंग की नहीं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप