बिजेंद्र बंसल, नई दिल्ली। पलवल के नजदीक पृथला औद्योगिक क्षेत्र एनसीआर में रेल कनेक्टिविटी का हब बनेगा। इसके लिए रेल मंत्रालय ने दिल्ली मुंबई रेल फ्रेट कारिडोर को पृथला में पलवल रेल लाइन से जोड़ने का प्रस्ताव मंजूर कर लिया है। 3.5 किलोमीटर लंबे इस जुड़ाव से पृथला में रेल फ्रेट कारिडोर सामान्य रेल लाइन का भी हिस्सा बन जाएगा।

इतना ही नहीं कुंडली-मानेसर-पलवल तक बनने वाले 121 किलोमीटर लंबी दोहरी रेल लाइन का जुड़ाव भी सीधे पलवल स्टेशन से होगा। यह हरियाणा आर्बिटल रेल कारिडोर द्वारा बनाया जाएगा। इन दोनों रेल लाइन के बूते ही पृथला औद्योगिक क्षेत्र रेल कनेक्टिविटी का हब बनेगा।

फरीदाबाद और पृथला औद्योगिक क्षेत्र को होगा फायदा

दिल्ली-मुंबई रेल फ्रेट कारिडोर को पृथला से पलवल तक जोड़ने के निर्णय से फरीदाबाद और पृथला दोनों औद्योगिक क्षेत्र को इसका सीधा फायदा मिलेगा। पृथला औद्योगिक संघ के संरक्षक हरदीप महाजन का कहना है कि केएमपी और केजीपी के बाद दिल्ली बडोदरा मुंबई एक्सप्रेस वे के निर्माण के चलते सड़क कनेक्टिविटी में यह क्षेत्र अव्वल हो गया था। रेल मंत्रालय की इस योजना से उद्योग जगत को मालभाड़े में कम से कम 30 फीसद का फायदा होगा।

एचआरआइडीसी ने करनाल यमुनानगर नई रेल परियोजना का प्रस्ताव किया तैयार

संसद के मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा के एक सवाल का जबाव देते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने यह भी बताया कि इन परियोजनाओं का निर्माण रेल मंत्रालय और हरियाणा सरकार की संयुक्त वेंचर कंपनी हरियाणा रेल अवसंरचना विकास कारपोरेशन लिमिटेड करेगी।

हरियाणा रेल अवसंरचना विकास कारपोरेशन लिमिटेड (एचआरआइडीसी) ने करनाल और यमुनानगर के बीच 65 किलोमीटर लंबी नई रेल लाइन का प्रस्ताव भी तैयार किया है। इससे भी इन शहरों के बीच कनेक्टिविटी बेहतर होगी और विकास परियोजनाओं को बल मिलेगा।

Edited By: Kamlesh Bhatt