जेएनएन, चंडीगढ़। सरकारी अफसरों द्वारा जनप्रतिनिधियों को पूरा सम्मान न देने पर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता खफा हैं। विधायकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान छलकी इस पीड़ा को लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात की और विस्तार से यह समस्या रखी। मुख्यमंत्री भी अफसरों के इस रवैये पर सख्त नजर आए और कहा कि जनप्रतिनिधियों का सम्मान बनाए रखना विधानपालिका के साथ कार्यपालिका की भी जिम्मेदारी है, इसलिए सरकार इस बारे में सभी यथोचित कदम उठाएगी।

मुख्यमंत्री ने अपने प्रधान सचिव राजेश खुल्लर को कहा कि जिलों के सभी जिम्मेदार अधिकारियों को मुख्य सचिव की ओर से निर्देश जारी किए जाएं। उन्होंने शीघ्र ही मुख्य सचिव की ओर से हरियाणा के सभी मंडल आयुक्तों, जिला उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और नगर निकायों के कार्यकारी अधिकारियों को पत्र लिखने को कहा। मुख्यमंत्री से विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता की इस मुलाकात के दौरान विधानसभा उपाध्यक्ष रणबीर गंगवा भी उनके साथ रहे।

गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन के चलते विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता प्रदेश के विधायकों से मुलाकात नहीं कर पा रहे थे, इसलिए गुप्ता ने विधायकों की कुशलक्षेम पूछने और निकट भविष्य में बनाई जाने वाली संसदीय समितियों के गठन पर सुझाव लेने के लिए 21 और 22 मई को वीडियो कॉफ्रेंस का आयोजन किया। संसदीय समितियों की कार्यशैली को प्रभावशाली बनाने के लिए विधायकों से मशविरा करना भी इस कॉन्फ्रेंस का प्रमुख उद्देश्य था।

दो दिन तक 4 सत्रों में चली इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में जहां विधायकों ने समितियों के गठन और कार्यप्रणाली को लेकर सुझाव दिए, वहीं उन्होंने कोरोना काल के अनुभवों को भी साझा किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों के रवैये पर काफी नाराजगी जताई। विधायकों का कहना था कि अधिकारी बताए हुए काम करना तो दूर उनके फोन तक नहीं उठाते। कई विधायकों ने तो ऐसा करने वाले अधिकारियों के नाम तक नोट करवाए।

विधायकों की इस पीड़ा पर विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता काफी चितिंत नजर आए और तुरंत मुख्यमंत्री मनोहर लाल के संज्ञान में मामला लाने के लिए उनसे मुलाकात की। उन्होंने कहा कि अधिकतर जन प्रतिनिधि प्रदेश सरकार की कार्यशैली से संतुष्ट हैं, लेकिन कुछ अधिकारियों का व्यवहार चिंताजनक है। ज्ञानचंद गुप्ता ने बताया कि कोरोनाकाल में संक्रमण रोकने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार की ओर से जो कदम उठाए गए हैं, उससे जनता में अच्छा संकेत गया है। सरकार ने राहत के तौर जिस प्रकार लोगों के लिए अनाज और आवश्यक वस्तुओं का प्रबंध करने के साथ-साथ जरूरतमंदों के बैंक खाते में नकदी जमा करवाई है, उससे व्यवस्था के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ा है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधायकों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए विधानसभा अध्यक्ष को आश्वासन दिया कि वे चुने हुए जनप्रतिनिधियों के सम्मान की रक्षा के लिए हर संभव कार्रवाई करेंगे। इसके लिए सरकार की ओर से जल्द संबंधित अधिकारियों को निर्देश जारी किए जाएंगे।

अभय चौटाला ने फोन कर जताया अभार

इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला किन्हीं कारणों से विधानसभा अध्यक्ष की ओर से आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंस में शामिल नहीं हो सके। उन्होंने अगले दिन ज्ञान चंद गुप्ता को फोन कर इस आयोजन के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि विधायकों के सम्मान के लिए विधानसभा अध्यक्ष की गंभीरता से वे काफी प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष जिस प्रकार अपनी जिम्मेदारियों को निभा रहे है, उससे विधायकों का उत्साह बढ़ना स्वाभाविक है।

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस