जेेेेएनएनए, चंडीगढ़। NCRB Report-2018: हरियाणा में महिला सुरक्षा के तमाम दावों के उलट महिलाओं के खिलाफ अपराध की दर लगातार बढ़ती जा रही है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की वर्ष 2018 के लिए जारी Report के मुताबिक महिलाओं के खिलाफ अपराध वर्ष 2017 के मुकाबले 26 फीसद बढ़े हैं। वर्ष 2018 में बच्चियों, किशोरियों और महिलाओं के खिलाफ 14 हजार 326 अपराध हुए। यानी कि प्रतिदिन 39 महिलाओं के खिलाफ कोई न कोई अपराध हुआ।

NCRB Report-2018 के मुताबिक वर्ष 2017 के मुकाबले दुष्कर्म के मामलों में 17 फीसद से अधिक की बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2017 में दुष्कर्म के 1099 केस दर्ज हुए थे, जबकि 2018 में ऐसे मामलों की संख्या 1296 पहुंच गई। महिलाओं के विरुद्ध दूसरे अपराधों में भी लगातार इजाफा हुआ है।

वर्ष 2015 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 9511 मामले दर्ज हुए थे। यानी कि तब प्रतिदिन करीब 26 महिलाओं को किसी न किसी तरह के अपराध का सामना करना पड़ा। वर्ष 2016 में यह ग्राफ बढ़कर 9839 और वर्ष 2017 में 11 हजार 370 पर पहुंच गया। वर्ष 2017 में प्रतिदिन महिलाओं के खिलाफ 31 से ज्यादा अपराध हुए।

वर्ष 2018 में प्रदेश में सभी तरह के अपराध के कुल एक लाख आठ हजार 212 मामले दर्ज किए गए। एक लाख प्रति आबादी पर 381 केस देश में तीसरी सबसे बड़ी आपराधिक दर है। लगातार पांचवें साल आपराधिक घटनाओं में वृद्धि हुई है। इससे पहले वर्ष 2014, 2015, 2016 और 2017 में अपराधों के क्रमश: 79 हजार 947, 84 हजार 466, 88 हजार 527 और 97 हजार 924 मामले दर्ज हुए थे। वर्ष 2018 में हर दिन लगभग तीन हत्याएं, चार दुष्कर्म और 14 अपहरण हुए।

वर्ष 2018 में अपराध

अपराध केस
हत्या 1,140
दुष्कर्म 1,296
सामूहिक दुष्कर्म 155
अपहरण 5,070
चोरी 18,576
वाहन चोरी 18,196
जबरन वसूली 323
लूट 502
डकैती 194

दलितों का बढ़ा उत्पीडऩ

अनुसूचित जाति के खिलाफ अपराधों में भी 26 फीसद से अधिक की वृद्धि देखी गई है। 2018 में ऐसे 961 मामले दर्ज किए गए। पास्को एक्ट के तहत बच्चों से यौन अपराध 69 फीसद बढ़ा। इस दौरान 887 बच्चों के अपहरण हुए जो देश मेें सर्वाधिक है। नशे से 86 मौतें हुईं। एनडीपीएस के 2,587 मामले सामने आए जो उत्तर भारत में सबसे ज्यादा है।

स्थिति भयावह : कुमारी सैलजा

महिला अपराध को मुद्दा बनाते हुए हरियाणा कांग्रेस की प्रधान और राज्यसभा सदस्य कुमारी सैलजा ने कहा कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि प्रदेश में स्थिति कितनी डरावनी है। हरियाणा पूरे देश में महिलाओं के खिलाफ अपराध में तीसरे नंबर पर है। इससे प्रतिदिन बिगड़ रही कानून व्यवस्था और महिला सुरक्षा की दयनीय स्थिति का पता चलता है। उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा के लिए कोई ठोस नीति नहीं होने से अपराधी बेखौफ होकर अपराध कर रहे हैं।

सरकारी तंत्र की विफलता से बढ़ा अपराध : सुरजेवाला

कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकारी तंत्र की विफलता ने हरियाणा जैसे शांतिपूर्ण राज्य को अपराध का केंद्र बना दिया है। प्रदेश में कानून व्यवस्था का जनाजा निकल चुका है। यही वजह है कि महिलाओं के खिलाफ अपराधों में तेजी से वृद्धि हुई है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस