जागरण संवाददाता, पंचकूला : 15 अगस्त तक लावारिस गायों से पंचकूला को मुक्त करवाने की मुहिम तेज हो गई है। नगर निगम के अधिकारी एवं कर्मचारी सड़क पर गायों को ढूंढते फिर रहे हैं और जो भी गाय पकड़ी जा रही है, उसके मालिक के खिलाफ केस दर्ज करवाया जा रहा है। साथ ही गाय छोड़ने के लिए पाच हजार रुपये जुर्माना भी वसूल किया जा रहा है। तीन पशु पालकों के खिलाफ नगर निगम द्वारा केस दर्ज करने के लिए पुलिस को भी लिखा गया है। दरअसल गायों को दूध निकालने के बाद पशुपालक घास चरने के लिए सड़कों पर छोड़ देते हैं। इन गायों पर सभी ने गुप्त निशानी भी लगा रखी है। रात के समय यह लावारिस पशु हादसों का कारण बनते हैं। पिछले दिनों हादसों के कारण अब निगम द्वारा मुहिम के तहत वीरवार रात को नगर निगम द्वारा शहर के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा करके लावारिस गायों को पकड़ा गया है। नगर निगम के कार्यकारी अधिकारी जरनैल सिंह वीरवार रात पुलिस और अपने कर्मचारियों के साथ शहर में लावारिस गायों को ढूंढने निकले, तो शहर में कोई भी गाय नजर नहीं आई। जिससे उन्हें संदेह हुआ कि किसी ने यह जानकारी लीक कर दी है। जिसके बाद वह घूमते हुए घग्गर पुल के नीचे पहुंचे। जहा पर नाजर सिंह द्वारा लगभग 100 गायों को इकट्ठा करके रखा गया था। टीम द्वारा इन गायों को पकड़ लिया गया और नाजर सिंह से पूछताछ की गई, तो उसने बताया कि वह रोजाना रात को गायों को दूध निकालने के बाद चरने के लिए भेज देता था और जब गाय घास इत्यादि खाने के बाद लौट आती है, तो फिर से उन्हें दूध निकालने के बाद छोड़ देता है। नाजर सिंह के खिलाफ नगर निगम द्वारा पुलिस को शिकायत दी गई है। साथ ही नगर निगम ने सुच्चा सिंह निवासी ग्राम रैली और शैतान सिंह निवासी मनसा देवी के खिलाफ भी सड़कों पर लावारिस गायों को छोड़ने के चलते पुलिस को शिकायत दी है। साथ ही इन पर 5000 रुपये जुर्माना भी लगाया गया है। बैठक कर लिया गया था निर्णय

गत दिन हरियाणा गोसेवा आयोग के साथ बैठक में निर्णय लिया गया था कि 15 अगस्त तक पंचकूला की सड़कें पूरी तरह आवारा गायों से मुक्त कर दी जाएंगी। हरियाणा गोसेवा आयोग के चेयरमैन भानी राम मंगला की अध्यक्षता में एक बैठक पंचकूला की विभिन्न गोशालाओं के प्रतिनिधि एवं नगर निगम के कार्यकारी अधिकारी जरनैल सिंह उपस्थित थे। पंचकूला में इस समय 9 गोशाला रजिस्टर्ड हैं। सभी गोशालाओं में लावारिस गायों को नगर निगम द्वारा छोड़ा जाता है।

Posted By: Jagran