चंडीगढ़, जेएनएन। लॉकडाउन के दौरान विधानसभा सचिवालय के अधिकारियों व कर्मचारियों ने मिलीभगत कर एमएलए हॉस्टल के गेस्ट हाउस को ही किराये पर दे डाला। विधानसभा सचिवालय के अधिकारियों ने छापेमारी में इस फर्जीवाड़े को पकड़ा। विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने मामले में सुपरवाइजर व टेलीफोन सहायक को निलंबित कर दिया है।

विधानसभा सचिवालय के अधिकारियों ने छापेमारी में पकड़ा फर्जीवाड़ा

प्रदेश में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद 23 मार्च से लॉकडाउन शुरू हो गया था। इसी दौरान चंडीगढ़ में भी कर्फ्यू लगा दिया गया था। इसके चलते चंडीगढ़ के सेक्टर तीन स्थित एमएलए हॉस्टल में रहने वाले सभी विधायक और पूर्व विधायक अपने घरों को चले गए थे। यहां ठहरने वाला मंत्रियों का स्टाफ भी चला गया। 25 मार्च से शुरू हुई पूर्ण तालाबंदी के बाद एमएलए हॉस्टल के कमरों को किराये पर देने का खेल शुरू हो गया।

हरियाणा सिविल सचिवालय व विधानसभा सचिवालय का स्टाफ तथा अन्य सभी अधिकारी कोरोना संक्रमण के चलते घरों में कैद थे तो एमएलए हॉस्टल में तैनात कर्मचारी-अधिकारियों ने मौके का फायदा उठाकर यहां के गेस्ट हाउस को किराये पर देना शुरू कर दिया। यह खेल कितने दिन चला और इसमें कौन-कौन दोषी है, इसका खुलासा होना अभी बाकी है।

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने सुपरवाइजर व टेलीफोन सहायक को किया निलंबित

बीती 31 मई को हरियाणा विधानसभा के स्पीकर के निर्देश पर आला अधिकारियों ने जब एमएलए हॉस्टल की जांच की तो यह मामला पकड़ में आया। इसके आधार पर मंगलवार को विधानसभा अध्यक्ष ने एमएलए हॉस्टल के सुपरवाइजर धर्मबीर यादव तथा टेलीफोन अटेंडेंट शतराजीत सिंह को निलंबित करने और विभागीय जांच के आदेश जारी कर दिए।

पिछले कुछ समय से सुर्खियों में है एमएलए हॉस्टल

हरियाणा एमएलए हॉस्टल पिछले कुछ समय से सुर्खियों में है। कुछ माह पहले यहां से एक पूर्व विधायक का करीबी रिश्तेदार शराब तस्करी के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है। यह मुद्दा विधानसभा के पिछले सत्र में जमकर उठा। इसके बाद विधायकों तथा पूर्व विधायकों द्वारा अपने चहेतों को यहां कमरे अलाट कराए जाने का मुद्दा भी गर्माया। हाल ही में शराब घोटाले को लेकर जजपा नेता की गिरफ्तारी के समय भी एमएलए हॉस्टल सुर्खियों में आया। अब यहां नया फर्जीवाड़ा सामने आ गया है।

यह भी पढ़ें: मास्‍क जरूर पहनें, लेकिन जानें किन बातों का रखना है ध्‍यान, अन्‍यथा हो सकता है हाइपरकेपनिया



यह भी पढ़ें: डॉलर की चकाचौंध भूल गए थे अपना वतन, अब गांव की मिट्टी में रमे पंजाब के युवा

 

यह भी पढ़ें: 100 लाेगों को जाना था औरंगाबाद, बैठा दिया अररिया की ट्रेन में, खाने को मिलीं चार पूडि़यां व चटनी


यह भी पढ़ें: खुद को मृत साबित कर US जाकर बस गया, कोरोना के डर से 28 साल बाद पंजाब लौटा तो खुली पोल

 

यह भी पढ़ें: दादी से मिलने मालगाड़ी से चला गया किशोर, दो माह तक लखनऊ में भटकता रहा, डीसी ने पहुंचाया


 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस