नई दिल्लीए राज्‍य ब्‍यूरो। हरियाणा में प्रशासनिक, सामाजिक, राजनीतिक परिदृश्य के आकलन से लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं के मन की बात पार्टी हाईकमान तक पहुंचेगी। पार्टी हाईकमान के निर्देश पर राष्ट्रीय महामंत्री डी.पुरुन्देश्वरी ने नई दिल्ली स्थित हरियाणा भवन में पार्टी के कोर ग्रुप में शामिल नेताओं के साथ बैठक में विस्तृत विवरण लिया।

इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह,पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री रतन लाल कटारिया, केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह सहित कई प्रमुख नेताओं ने राष्ट्रीय महामंत्री के समक्ष किसान संगठनों के आंदोलन से लेकर राज्य में भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार की कार्यप्रणाली के संबंध में भी खुलकर अपनी बात रखी।

बैठक की अध्यक्षता भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने की। मुख्यमंत्री मनोहर लाल चंडीगढ़ से इस बैठक में वर्चुअल माध्यम से जुड़े। बैठक में प्रमुख रूप से केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, राज्य के गृह मंत्री अनिल विज, शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष रामबिलास शर्मा,सुभाष बराला, पूर्व राष्ट्रीय सचिव सुधा यादव भी मौजूद रहे।

राष्ट्रीय महामंत्री पुरुन्देश्वरी ने भाजपा कोर ग्रुप की बैठक में लिया फीडबैक

हरियाणा भाजपा अध्‍यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने बताया कि राष्ट्रीय महामंत्री डी पुरुन्देश्वरी इन दिनों हरियाणा के प्रवास पर हैं। कोर ग्रुप के नेताओं से चर्चा के बाद वह आज गुरुग्राम में पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों से फीडबैक लेंगी। इसके बाद जिला, ब्लाक व बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से भी संवाद करेंगी। प्रवास का यह दौर फिर पानीपत से शुरू होगा।

उन्होंने बताया कि कोर ग्रुप की मैराथन बैठक में राष्ट्रीय महामंत्री को सभी प्रमुख नेताओं ने राज्य में पार्टी की स्थिति, मौजूदा राजनीतिक स्थिति से लेकर प्रशासनिक कामकाज के बारे में भी विस्तृत रूप से बताया है। राष्ट्रीय महामंत्री ने राज्य के आर्थिक सामाजिक परिदृश्य में सरकार व संगठन के कामकाज की बारीकी से जानकारी ली है। बताया जा रहा है कि प्रवास के बाद डी. पुरुनदेश्वरी पार्टी हाईकमान को अपनी एक विस्तृत रिपोर्ट सौंपेंगी।

किसान संगठनों के आंदोलन में अब किसान नहीं

ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि तीन कृषि सुधार कानूनों को लेकर विपक्ष ने पहले जो भ्रम किसानों के बीच फैलाया था, वह अब दूर हो गया है। आंदोलन के किसी मंच पर अब यह बात नहीं होती कि इन कानूनों से किसानों की जमीन छिन जाएंगी, मंडियां बंद हो जाएंगी। क्योंकि, अब किसानों का भ्रम दूर हो गया है। मंडियां यथावत चल रही हैं। जमीन किसानों के पास ही हैं। अब आंदोलन में कांग्रेस और वामदल ही सक्रिय हैं। भाजपा उनसे अपील कर रही है कि वे अपने झंडे और बैनर लेकर आंदोलन करें ताकि देश उनके राजनीतिक भाव को भी समझ सके।

पार्टी के छोटे समूह में होता है मंत्रिमंडल के कामकाज का आकलन

धनखड़ ने मंत्रिमंडल फेरबदल या मंत्रियों के कामकाज के आकलन की बाबत कहा कि यह काम पार्टी के बहुत ही छोटे समूह द्वारा किया जाता है। मंत्रियों की बाबत निर्णय करने का अधिकार मुख्यमंत्री के पास होता है। इस बैठक में मंत्रियों के कामकाज को लेकर कोई बात नहीं हुई।

Edited By: Sunil Kumar Jha