जागरण संवाददाता, पंचकूला : 25 अगस्त को पंचकूला में हुई आगजनी और हिंसा के मामले में एसआइटी को एक और बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने महेद्र इंसा उर्फ डॉ. एमपी सिंह को सिरसा डेरे से गिरफ्तार किया है। एसआइटी प्रमुख एसीपी मुकेश मल्हौत्रा ने बताया कि टीम ने सिरसा डेरे में सर्च अभियान चलाया, जहां महेद्र इंसा पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। 25 अगस्त को महेद्र इंसा प्रमुख आरोपी डॉ. आदित्य इंसा के साथ पंचकूला पहुंचा था। वह भी समर्थकों को आगजनी एवं उपद्रव के लिए उकसाने वालों में प्रमुख था। सूत्रों के अनुसार आरोपी महेद्र पिछले लगभग चार महीने से डेरे में ही छिपा हुआ था। एक डेरा समर्थक ने उसे अपने घर पर पनाह दे रखी थी और वह हुलिया बदलकर रह रहा था। पुलिस ने गुप्त सूचना मिलने के बाद आरोपी को गिरफ्तार किया। एमपी सिंह पेशे से डॉक्टर है और उस पर सैंकड़ों समर्थकों को नपुसंक बनाने का भी आरोप है। वह राम रहीम के खास लोगों में से एक है और उसने राम रहीम के इशारे पर ही कई लोगों को नपुसंक बनाया था। पुलिस की ओर से आरोपी को सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

इनकी गिरफ्तारी है अभी बाकी

पुलिस ने इस मामले में 2 लाख रुपये के इनामी वांटेड डा. आदित्य को अभी गिरफ्तार करना है। इसके अलवा पुलिस नवीन उर्फ गोबीराम निवासी सादुलशहर जिला श्रीगंगानगर राजस्थान, अमरीक सिंह निवासी गांव बंगा थाना मुनक जिला संगरुर पंजाब, राकेश उर्फ गुरलीन निवास लाल वासी कमरा नंबर एक एडमिन ब्लॉक डेरा सच्चा सौदा सिरसा, फूल सिंह निवासी मलोट पंजाब की गिरफ्तारी होनी बाकी है। इन आरोपियों पर पुलिस ने 50-50 हजार रुपये का इनाम रखा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस