राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़।  हरियाणा में अब शराब की दुकानें रात 10 बजे तक खुल सकेंगी। जिम और स्पा को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोला जा सकता है। राज्य में महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा के तहत जारी अन्य पाबंदियों को 28 जनवरी तक बढ़ाया गया है। राज्य आपदा प्रबंधन समिति के चेयरमैन और मुख्य सचिव संजीव कौशल ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। बाकी प्रतिबंध पहले की तरह जारी रहेंगे। सभी उपायुक्तों को आदेशों का सख्ती से पालन कराने के लिए कहा गया है।

वहीं, हरियाणा में कोरोना की तीसरी लहर के बीच संक्रमितों का ग्राफ 59 हजार 344 पर पहुंच गया है। राहत की बात यह कि इनमें 57 हजार 708 मरीज घरों पर ही स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। अस्पतालों में सिर्फ 1636 मरीज दाखिल हैं जिनमें बड़ी संख्या में दिल्ली, उत्तर प्रदेश सहित दूसरे प्रदेशों के मरीज भी शामिल हैं। हालांकि चिंता की बात यह कि कोरोना संक्रमण के चरम पर पहुंचने के बावजूद सैंपलिंग की रफ्तार बढ़ने का नाम नहीं ले रही।

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दैनिक जांच का ग्राफ बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। गंभीर मरीजों को तत्काल अस्पतालों में पहुंचाने के लिए स्वास्थ्य मंत्री वीरवार दोपहर एक बजे पंचकूला से 198 पेशेंट ट्रांसपोर्ट एंबुलेंस और 47 मेडिकल मोबाइल यूनिट्स को हरी झंडी दिखाएंगे। अच्छी बात है कि संक्रमण दर में और गिरावट आई है। बुधवार को संक्रमण दर 19.99 प्रतिशत पर पहुंच गई। हालांकि इस दौरान करनाल में काेरोना संक्रमित छह लोगों की मौत हो गई।

इसी तरह गुरुग्राम में दो और सोनीपत, अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र में एक-एक मरीज ने दम तोड़ दिया। पिछले 24 घंटों में 8847 मरीज मिले हैं, जबकि 12 लोगों की मौत हो गई। 6768 मरीज ठीक हुए हैं। सबसे ज्यादा गुरुग्राम में 2918, फरीदाबाद में 1285, सोनीपत में 649, पंचकूला में 452, अंबाला में 593, पानीपत में 178, करनाल में 437, रेवाड़ी में 191, हिसार में 430, रोहतक में 321, यमुनानगर में 242, कुरुक्षेत्र में 195, झज्जर में 182, जींद में 122, कैथल में 149 नए संक्रमित मिले। सबसे कम पलवल में 21 और नूंह में 36 मरीज मिले।

वहीं, एक लाख 19 हजार 870 लोगों ने कोरोना से बचाव का सुरक्षा कवच पहना। इनमें 45 हजार 14 ने पहली, 67 हजार 774 ने दूसरी और सात हजार 82 लोगों ने बूस्टर डोज ली। प्रदेश में अभी तक तीन करोड़ 83 लाख 23 हजार 982 टीके लगे हैं। इनमें दो करोड़ 21 लाख 63 हजार छह को पहली और एक करोड़ 60 लाख 77 हजार 847 को दूसरी डोज लगी है। लगातार मिल रहे मरीजों के चलते रिकवरी दर लुढ़क कर 92.04 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.16 प्रतिशत पर पहुंच चुकी है।

Edited By: Kamlesh Bhatt