अनुराग अग्रवाल, चंडीगढ़। Haryana Cabinet Expansion: हरियाणा की मनोहर लाल मंत्रिमंडल का आज विस्तार हो गया है। कैबिनेट में दो और मंत्री डा. कमल गुप्ता व देवेंद्र बबली को शामिल किया गया है। आइए जानते हैं कैबिनेट में शामिल मंत्रियों के राजनीतिक सफर के बारे में। 

मंत्रिमंडल विस्तार में भारतीय जनता पार्टी के कोटे से डा. कमल गुप्ता मंत्री बने हैं। वह हिसार से विधायक हैं और पेशे से डाक्टर हैं। कमल गुप्ता का जन्म हरियाणा के ही गुरुग्राम में हुआ, उनके पिता डाक विभाग में पोस्टमास्टर थे। उनकी स्कूली शिक्षा चरखी दादरी से हुई और रोहतक मेडिकल कालेज से उन्होंने डाक्टरी की डिग्री हासिल की।

हिसार में मेडिकल की प्रैक्टिस करने वाले डाक्टर कमल गुप्ता ने बीजेपी के टिकट पर 1996 से चुनाव लड़ना शुरू किया। 2014 में पहली बार वो हिसार से विधायक बने। उन्होंने एशिया की सबसे अमीर महिला सावित्री जिंदल को हराया। मनोहर लाल की पिछली सरकार में वो 2 साल तक संसदीय सचिव भी रहे, लेकिन बाद में उन्हें कोर्ट के हस्तक्षेप की वजह से हटा दिया गया था। 2019 में कमल गुप्ता दोबारा हिसार से विधायक बने और सरकार बनने के 26 महीनों के बाद उन्हें मंत्री पद से नवाजा गया है। गुप्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बेहद करीबी हैं और उन्होंने मंत्री पद की शपथ भी संस्कृत भाषा में ली है।

मनोहर कैबिनेट में शामिल हुए दूसरे मंत्री देवेंद्र बबली फतेहाबाद जिले की टोहाना विधानसभा सीट से विधायक हैं। वह जननायक जनता पार्टी में हैं। विधानसभा चुनाव-2019 में देवेंद्र बबली 52302 वोट के बड़े अंतर से जीतकर पहली बार विधायक बने। इस चुनाव में बबली ने कुल 100752 वोट प्राप्त किए। इससे पहले वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में इन्होंने आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था और करीब 39 हजार वोट हासिल किए थे।

देवेंद्र बबली समाज सेवा के कार्यों में सदैव आगे रहे हैं। वे लंबे समय से क्षेत्र में अपनी सामाजिक संस्था के माध्यम से लोगों के लिए आंखों के चेकअप कैंप, गरीब कन्याओं के विवाह, युवाओं के लिए खेल आदि जैसे कई समाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करवाते आ रहे हैं। देवेंद्र बबली टोहाना के गांव बिढाईखेड़ा के रहने वाले हैं। किसान परिवार से संबंध रखने वाले बबली व्यवसायी भी हैं। उनके पिता का नाम दिलबाग सिंह और माता का नाम शारदा देवी है। देवेंद्र बबली स्वतंत्रता सेनानी परिवार से संबंध रखते हैं और वे अपने दादा को अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं। बबली के दादा कैप्टन उमराव सिंह नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ आजाद हिंद फौज में कैप्टन थे।

Edited By: Kamlesh Bhatt