पंचकूला/ रोहतक/ अंबाला, जेएनएन। पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्या मामले में फैसला सुनाते हुए जज जगदीप सिंह ने दो बार कहा, राम रहीम तुम दोषी हो। इसके बाद गुरमीत सामान्‍य दिख रहा गुरमीत उदास हो गया। दूसरी ओर, अंबाला सेंट्रल जेल में बंद हनीप्रीत फैसले के बारे में जानकारी मिलने के बाद बेचैन हो गई।

दरअसल जज जगदीप सिंह ने जब फैसला सुनाया, तो वीडियो कान्‍फेंसिंग से पेश गुरमीत रााम रहीम को एक बार में सुनाई नहीं दिया। इसके बाद जज जगदीप सिंह ने फिर से राम रहीम को बताया कि तुम्हें रामचंद्र छत्रपति की हत्या का दोषी करार दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: गुरमीत राम रहीम को हाे सकती है बड़ी सजा, गंभीर धाराओं में हुआ दोषी करार

कोर्ट में मौजूद अभियोजन पक्ष के गवाह खट्टा सिंह ने बताया कि गुरमीत राम रहीम ने जब यह फैसला सुना, तो उसका चेहरा उतर गया। राम रहीम की दाढ़ी और बाल सफेद हो चुके हैं और उसका चेहरा भी फीका पड़ चुका है। फैसला सुनाए जाने के बाद जिला शासकीय अधिवक्ता पंकज गर्ग ने कोर्ट से अपील की कि वह सजा के लिए कम से कम एक सप्ताह का समय दें। सजा को लेकर पुलिस और सरकार की ओर से तैयारी करनी पड़ेगी। इसपर जज ने 17 जनवरी के लिए सजा का समय दिया है।

सुनारिया जेल में राम रहीम ने अनमने मन से खाया खाना, गुमसुम होकर इधर- उधर टहलता रहा

डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम वीडियो कान्‍फ्रेसिंग के जरिये पेश होने से पहले पूरी तरह से नॉर्मल दिख रहा था, लेकिन जैसे ही सीबीआइ विशेष अदालत के जज ने फैसला सुनाया तो उसका चेहरा एकदम से उतर गया। माथे पर हाथ रखकर चुपचाप कान्‍फ्रेंसिंग हाॅल में बैठ गया। इसके बाद चेहरे पर शिकन के साथ बैरक में इधर- उधर टहलता रहा। उसने शाम का खाना भी अनमने मन से खाया।

सुनारिया जेल में बंद गुरमीत को शुक्रवार को करीब दो बजे वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग हॉल में लाया गया। सीबीआइ अदालत के जज जगदीप सिंह ने करीब तीन बजे वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग के जरिए पेश होने के आदेश दिए। जैसे ही वीडियो कान्‍फ्रेंंसिंग से कनेक्टीविटी हुई राम रहीम नीचे सिर करके खड़ा हो गया। बृहस्पतिवार को उसके वकील गुरदास सिंह भी सुनारिया जेल में उसे फैसला पक्ष में आने का भरोसा देकर गए थे। लेकिन जैसे ही जज ने गुरमीत को दोषी करार दिया, उसके चेहरे के भाव बदल गए। सारा आत्मविश्वास गायब हो गया।

दोषी करार देने के बाद वह अपनी बैरक में परेशान हाल इधर-उधर टहलता रहा। नंबरदार उसकी गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे। उसका ध्यान भटकाने के मकसद से नंबरदारों ने उससे बातचीत भी करने का प्रयास किया, लेकिन उसने काफी देर तक किसी से बात नहीं की। शाम का खाना भी अच्छे से नहीं खाया। अब 17 जनवरी को उसे सजा सुनाई जानी है, इसलिए जेल प्रशासन को भी उस पर अतिरिक्त नजर रखनी पड़ेगी।

एहतियात के तौर पर जेल में बुलाई थी एंबुलेंस

बताया जाता है कि सुनारिया जेल में एहतियात के तौर पर एंबुलेंस को भी जेल परिसर में बुलाया गया था। कई बार फैसले को लेकर मानसिक रूप से दोषी को दिक्कत हो सकती है। लेकिन गुरमीत राम रहीम अदालत के फैसले के बाद तनाव में तो जरूर था, लेकिन उसे किसी स्वास्थ्य जांच की जरूरत नहीं पड़ी।

17 जनवरी तक तैनात रहेगा पुलिस बल

डीएसपी ताहिर हुसैन ने बताया कि सजा का फैसला 17 जनवरी को आना है। ऐसे में सुनारिया जेल व आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा पहले की भांति रहेगी। पुलिस के जवान अलग-अलग स्थानों पर नाकाबंदी करके तैनात हैं। इसको लेकर 24 घंटे गश्त रहेगी और जेल की तरफ जाने वाले वाहन व लोगों की जांच नियमित की जाएगी।

गुरमीत के दोष सिद्ध होने से उतर गया हनीप्रीत हो गई बेचैन और उतरा चेहरा

उधर अंबाला सेंट्रल जेल में बंद हनीप्रीत को गुरमीत को पत्रकार छत्रपति हत्या मामले में दोषी करार दिए जाने पर पता चला तो वह हनीप्रीत बेचैन हो गई और उसका चेहरा उतर गया। वहीं, सीबीआइ कोर्ट के फैसले के बाद यहां भेजे गए गुरमीत के तीन सहयोगियों कुलदीप, कृष्णलाल और निर्मल सिंह को शुक्रवार को शाम पौने 5 बजे कड़ी सुरक्षा के बीच सेंट्रल जेल में बंद कर दिया गया। इससे पहले उनका मेडिकल कराया गया।

सेंट्रल जेल अंबाला में बंद हनीप्रीत दिनभर गुरमीत की जानकारी लेने के लिए परेशान रही। जेल सूत्रों ने बताया कि हनीप्रीत ने सुबह नाश्ता भी ढंग से नहीं किया। वह शाम तक बाबा के बारे में ही पूछती रही। शुक्रवार को दिन में करीब 3 बजे जब सेंट्रल जेल की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ गई और तीनों दोषियों को जेल में लाने के कारण हलचल तेज हो गई तब हनीप्रीत को पता चला कि कोर्ट ने बाबा को दोषी करार दे दिया है। यह सुनते ही उसका चेहरा उतर गया। उसने किसी से कोई बात नहीं की।

------------------

हनीप्रीत सहित 22 डेराप्रेमी सेंट्रल जेल में बंद

13 अक्टूबर 2017 को यहां लाई गई हनीप्रीत सहित 22 डेरा प्रेमी यहां बंद हैं। इनमें शुक्रवार को लाए गए तीनों बंदी भी हैं। डेरा सच्चा सौदा के एक अनुयायी यूपी के सरसवा के रहने वाले रङ्क्षवदर गुर्जर ने 3 सितंबर 2017 को सेंट्रल जेल में फांसी लगा ली थी। उसे पंचकूला में हुई ङ्क्षहसा और आगजनी के बाद गिरफ्तार किया गया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप