चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा में दो विभागों में होने वाली परीक्षाएं स्‍थगित कर दी गई हैं। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) द्वारा स्वास्थ्य विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग में विभिन्न पदों पर भर्तियों की परीक्षा ली जानी थी। आयोग ने 16 व 17 जनवरी को आयोजित होने वाली इन परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। आयोग ने तकनीकी एवं प्रशासनिक कारणों का हवाला देते हुए ये परीक्षाएं रद की हैं। अभी इन परीक्षाओं की नई तिथि की घोषणा नहीं की गई हैं। आयोग परीक्षाओं की नई तिथि की घोषणा जल्‍द ही कर सकता है।

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) ने स्वास्थ्य विभाग में एमपीएचडब्ल्यू, स्टाफ नर्स, लैब अटेंडेंट के लिए पिछले 7 दिसंबर को आवेदन मांगे थे। इसके साथ ही आयोग ने महिला एवं बाल विकास विभाग के लिए सुपरवाइजर, ईएसआई हरियाणा में भर्तियों के लिए 7 दिसंबर को आवेदन मांगे थे। आयोग द्वारा दोनों विभागों में इन भर्तियों के लिए 16 व 17 जनवरी को लिखित परीक्षा आयोजित करने का कार्यक्रम जारी किया गया था। आयोग की ओर से नया परीक्षा कार्यक्रम जल्द ही जारी किया जाएगा।

पांच साल से हरियाणा में रह रहे सभी लोगों को मिलेंगे रिहायश प्रमाणपत्र

हरियाणा में रह रहे दूसरे प्रदेशों के लोगों को बड़ी राहत दी है। हरियाणा में अब पांच साल से रह रहे दूसरे राज्‍यों के लोगों को भी रिहायश प्रमाणपत्र (डोमिसाइल) जारी किए जाएंगे। दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नौकरियों के लिए वन टाइम रजिस्ट्रेशन पोर्टल लांच करते हुए इसकी घोषणा की थी।

हरियाणा के मुख्य सचिव ने वीरवार को नियमों में बदलाव की अधिसूचना जारी कर दी है। अभी तक दूसरे प्रदेशों के लोगों को हरियाणा में 15 साल रहने पर ही रिहायश प्रमाणपत्र दिया जाता था। नई व्यवस्था में अब पांच साल से कम समय से हरियाणा में रहने वाले लोगों को भी अस्थायी पहचानपत्र जारी किए जाएंगे जिससे वह वन टाइम रजिस्ट्रेशन पोर्टल पर आवेदन कर सकते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

यह भी पढ़ें: हरियाणा में देश की पहली Air Taxi की शुरुआत, महज 40 मिनट में चंडीगढ़ से हिसार पहुंची


यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट की बनाई कमेटी से अलग हुए भूपिंदर सिंह मान

 

 

हरियाणा की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021