जागरण संवाददाता, पंचकूला : हिमाचल की विजिलेंस टीम ने पंचकूला की एक डॉक्टर के ठिकानों पर छापेमारी की है। विजिलेंस असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर बद्दी निशांत सरीन के खिलाफ जांच कर रही है। पिछले दिनों निशांत सरीन के खिलाफ कुछ शिकायतें हिमाचल के मुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री को मिली थी। जिसके बाद मामले में जांच विजिलेंस को सौंप दी गई थी। इन शिकायतों में एक महिला डॉक्टर का भी नाम लिखा गया था। निशांत सरीन एवं डॉ. कोमल खन्ना जानकार हैं और डॉ. कोमल पंचकूला में एक फार्मा कंपनी भी चलाती है। विजिलेंस टीम शुक्रवार सुबह सेक्टर-20 स्थित सनसिटी के एक फ्लैट में रहने वाली डॉ. कोमल खन्ना के निवास पर पहुंची। टीम ने घर में छानबीन की। कुछ नकदी बरामद होने की भी सूचना मिल रही है। जब विजिलेंस की टीम डॉ. कोमल खन्ना के घर पहुंची तो वह घर पर नहीं थी। कोमल के घर पर एक बुजुर्ग महिला मौजूद थी। जिससे विजिलेंस ने पूछताछ की है। रिकॉर्ड के संदर्भ में ली गई जानकारी

विजिलेंस की टीम ने सनसिटी के रिकॉर्ड की भी जानकारी मैनेजमेंट कमेटी की रजनी से ली। फ्लैट की ऑनरशिप के बारे में पूछताछ की गई। रजनी ने विजिलेंस को बताया कि डॉ. कोमल खन्ना के नाम पर फ्लैट है जोकि उन्होंने पिछले साल ही खरीदा है। सिक्योरिटी के कर्मचारियों से भी विजिलेंस टीम ने पूछताछ की। लगभग तीन से चार घंटे विजिलेंस की टीम फ्लैट पर रुकी। वहीं, टीम ने औद्योगिक क्षेत्र फेज-एक स्थित डॉ. कोमल की जेहनिया फार्मास्यूटिकल में भी छापा मारा। यहां भी कई दस्तावेजों को कब्जे में लिया गया है। दो हिस्सो में बंट गए थे फार्मा से जुडे़ लोग

गौरतलब है कि निशांत सरीन के खिलाफ जब शिकायतें हुई थी तो हिमाचल का फार्मा जगत दो हिस्सों में बंट गया था। एक फार्मा टीम निशांत सरीन के साथ था जोकि निशांत पर लगे आरोपों को खारिज करते हुए शिकायत करने से इन्कार कर रहा था जबकि कुछ फार्मा कंपनियों ने अज्ञात नामों से निशांत सरीन के खिलाफ मोर्चा खोल रखा था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप