राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली। शहरी स्थानीय निकाय संस्थाओं के सर्वेक्षण के बाद अब ग्रामीण स्वच्छ सर्वेक्षण में भी हरियाणाने रिकार्ड स्थापित किए हैं।प्रदेश मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में नित नए आयाम हासिल कर रहा है। अब प्रदेश ने स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत 2021-22 में संपूर्ण स्वच्छता के लिए ओडीएफ स्थायित्त्व तथा ओडीएफ प्लस के विभिन्न घटकों के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिए स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2022 के आधार पर 30 लाख से अधिक जनसंख्या वाले राज्यों की श्रेणी में देशमें दूसरा स्थान हासिल किया है।

विज्ञान भवन नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में हरियाणा प्रदेश की ओर से ये पुरस्कार प्रदेश के विकास एवं पंचायत मंत्री देवेंद्र सिंह बबली ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु से प्राप्त किया । इस अवसर पर केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री गिरिराज सिंह, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, केंद्रीय जल शक्ति एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल, और जल शक्ति एवम जनजातीय मामले राज्य मंत्रीबिश्वेश्वर टुडु भी उपस्थित थे।

विकास एवम पंचायत मंत्री देवेंद्र सिंह बबली ने कहा की प्रदेश का हर विभाग नई कार्य प्रणालियां अपनाकर एवं योजनाएं क्रियान्वित कर प्रदेश को सर्वोच्च उन्नति पर ले जाने के लिए कटिबद्ध है। प्रदेश के गांवों में रहने वाले लोगों की जीवन शैली को उच्च स्तर पर लाने एवम ग्रामीण विकास पर विशेष फोकस दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि इस अर्जित उपलब्धि में विकास एवं पंचायतविकास के अधिकारियों के साथ-साथ स्वच्छता सैनिकों, शिक्षा विभाग ,महिला एवं बाल विकासविभाग तथा सामुदायिक सहयोग करने वाले लोगों व संस्थाओं का भी महत्वपूर्ण योगदान है। इन लोगों ने ही सरकार के साथ जुड़कर स्वच्छता विषय पर ग्रामीण आंचल के लोगों को विभिन्न तरीकों से जागरूक किया है।

विकास एवम पंचायत मंत्री ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर से लेकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिन दो अक्टूबर तक पूरे देश में हर साल स्वच्छता पखवाड़ा मनाया जाता है। इसी अवधि के दौरान प्रदेश में भी जिला स्तरीय "स्वच्छता ही सेवा" कार्यक्रम चलाया गया। इसके अंतर्गत हर गांव में स्वच्छता अभियान चलाए गए और लोगों को सिंगल यूज़ प्लास्टिक का प्रयोग न करने व अपने परिवेश को साफ सुथरा रखने बारे रैलियों, प्रभात फेरियोँ, हस्ताक्षर अभियान, सामुदायिक सहयोग व अन्य माध्यमों से जागरूक किया गया ।

उन्होंने कहा कि भिवानी जिला का पूरे देश के ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में पहले स्थान पर आना यह दिखाता है कि यहां के अधिकारियों के साथ-साथ ग्रामीण जनता में स्वच्छता के बारे में बहुत जागरूकता है । उन्होंने बताया कि भिवानी जिला के 22 गांवों में बरसाती व गंदे पानी का विशेष ढ़ांचा बनाकर प्रबंधन किया गया है। इसके साथ-साथ जिला के विभिन्न गांवों में अमृत सरोवर परियोजना के तहत 24 तालाबों का नवीनीकरण व सौंदर्यीकरण किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हरियाणा की भौगोलिक परिस्थितियां हर जिले में अलग है। सरकार व प्रशासन अपना कार्य कर रहे हैं । लोगों को भी पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए अपने परिवेश को साफ रखने में महत्वपूर्ण योगदान देना होगा । इसी कड़ी में हमें अपने घर के कूड़े का समुचित निपटान करने की तकनीक अपनानी होगी। हरियाणा सरकार शहरों की तर्ज पर गांवों मेंभी हर घर से कूड़ा उठाने की दिशा में योजना बना रही है।

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट