राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा में अवैध खनन के लिहाज से संवेदनशील और अति संवेदनशील इलाकों में खनन माफिया से निपटने के लिए अब ग्राम सचिवों और पटवारियों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी। अवैध खनन वाले क्षेत्र में 24 घंटे कर्मचारी तैनात किए जाएंगे।

मुख्य सचिव संजीव कौशल ने गत दिवस उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों के साथ समीक्षा बैठक में खनन माफिया के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने के निर्देश दिए। साथ ही खनन विभाग के अधिकारियों को अवैध स्थलों का व्यक्तिगत रूप से दौरा कर रिपोर्ट भेजने को कहा।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक लेते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि अवैध खनन रोकने के लिए अधिकारी एक्शन प्लान तैयार करें और उसे धरातल पर सख्ती से लागू करें। अवैध खनन वाले इलाकों में व्यक्तिगत रूप से दौरा कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करें। पुलिस गश्त को भी बढ़ाएं।

संजीव कौशल ने कहा कि जो भी व्यक्ति अवैध खनन में संलिप्त पाया जाता है, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि अधिकारी जिला टास्क फोर्स की बैठक नियमित रूप से करने के साथ-साथ माइनिंग क्षेत्रों का समय-समय पर निरीक्षण करें।

पुलिस अधीक्षक अवैध खनन के संबंध में पहले से दर्ज मामलों में भी कार्रवाई को गति दें और न्यायालयों में विचाराधीन मामलों में ठोस पैरवी करें। सभी जिलों में अवैध खनन के नियंत्रण के लिए पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित किए जाएं।

Edited By: Kamlesh Bhatt