चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा में कोरोना वायरस COVID-19 के खिलाफ जंग को मजबूजी के लिए बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने हरियाणा को कलस्‍टरों में बांट‍ दिया है। तब्लीगी जमातियों की वजह से लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों को देखते हुए प्रदेश सरकार ने राज्य के छह जिलों में 11 अस्पतालों को कोविड-19 अस्पताल घोषित कर दिया है। अब इन अस्पतालों में सिर्फ कोरोना पीडि़तों का उपचार किया जाएगा। पूरे हरियाणा को कलस्टर में बांटकर इन अस्पतालों को साथ जोड़ा गया है। इन अस्पतालों में कोरोना पीडि़तों के लिए 2900 बेड आरक्षित किए गए हैं।

स्वास्थ्य सचिव की रिपोर्ट पर हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री विज ने लिया फैसला

हरियाण के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में यह फैसला लिया गया। विज ने स्वास्थ्य सचिव राजीव अरोड़ा से प्रदेश के सभी जिलों को कलस्टर के रूप में चिन्हित कर कोविड-19 अस्पताल बनाए की रिपोर्ट ली थी। स्वास्थ्य सचिव द्वारा जारी आदेश के अनुसार हिसार जिले के महाराजा अग्रसेन मेडिकल कालेज अग्रोहा को कोविड-19 अस्पताल में बदल दिया गया है। 550 बिस्तरों की क्षमता वाले इस अस्पताल में हिसार के अलावा सिरसा व फतेहाबाद जिलों के कोरोना पीडि़तों का इलाज किया जाएगा।

इन 11 अस्पतालों में कोरोना के मरीजों के लिए 2900 बेड किए गए आरक्षित

नूंह स्थित शहीद हसन खां मेवाती मेडिकल कालेज नल्हड़ को कोविड-19 अस्पताल घोषित कर दिया गया है। 600 बिस्तरों की क्षमता वाले इस अस्पताल में केवल नूंह जिले के रोगियों का उपचार होगा। यहां अधिकतर तब्लीगी जमात से लौटे कोरोना पीडि़त हैं। गुरुग्राम में रोगियों की बढ़ी संख्या को देखते हुए दो अस्पतालों को कोरोना अस्पताल बनाया गया है। 80 बिस्तरों की क्षमता वाले एसजीटी मेडिकल कालेज बुढेड़ा में रेवाड़ी तथा नारनौल जिले के कोरोना रोगियों को शिफ्ट किया जाएगा।

गुरुग्राम के सेक्टर-नौ स्थित ईएसआइसी अस्पताल में केवल इसी जिले के कोरोना पीडि़तों का इलाज किया जाएगा। यहां 125 बिस्तरों की व्यवस्था कोरोना पीडि़तों के लिए की गई है। रोहतक स्थित पीजीआइएमएस में कोरोना पीडि़तों के लिए 500 बेड आरक्षित किए गए हैं। यहां रोहतक, झज्जर, जींद, भिवानी तथा चरखी-दादरी जिलों के मरीजों का उपचार होगा।

बीपीएस खानपुर सोनीपत में सोनीपत व पानीपत जिलों के रोगियों के लिए डेढ सौ बेड आरक्षित किए गए हैं। कुरुक्षेत्र जिले के आदेश मेडिकल कालेज में कोरोना पीडि़तों के लिए 410 बेड आरक्षित करते हुए करनाल, कुरूक्षेत्र तथा कैथल जिलों को इसके साथ जोड़ा गया है। मुलाना स्थित एमएमयू के साथ अंबाला व यमुनानगर जिलों को जोड़ा गया है। यहां कोरोना पीडि़तों के लिए 210 बेड आरक्षित किए गए हैं।

फरीदाबाद स्थित ईएसआईसी मेडिकल कालेज में भी अब कोरोना पीडि़तों का उपचार होगा। यहां पलवल तथा फरीदाबाद जिलों के लिए 140 बेड आरक्षित किए गए हैं। पंचकूला में पारस अस्पताल के 23 तथा सेक्टर-छह स्थित सिविल अस्पताल पंचकूला के 113 बेड केवल पंचकूला जिले में आने वाले कोरोना पीडि़तों के लिए आरक्षित किए गए हैं।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें: Fight against Corona: कैप्‍टन सरकार का बड़ा कदम, पंजाब में मास्क पहनना हुआ अनिवार्य


यह भी पढ़ें: 'रामायण' के सुग्रीव की अस्थियां लॉकडाउन, रामचरितमानस का पाठ करते समय अचानक हुआ निधन


यह भी पढ़ें: Lockdown में छ‍ह‍ जिलों की पुलिस को चकमा दे स्‍कूटी से 127 किमी पहुंची युवती, प्रेमी को ले गई

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस