चंडीगढ़, जेएनएन। कोरोना संकट के बीच Delhi-Haryana border खोलने और सील करने को लेकर हरियाणा व दिल्ली सरकारों में तनातनी बढ़ गई है। हरियाणा द्वारा बार्डर खोलने और दिल्ली द्वारा बार्डर सील कर देने से ऐसे हालात बने हैं। अब न तो हरियाणा के लोग दिल्ली जा पा रहे हैैं और न ही दिल्ली के लोग हरियाणा आ पा रहे हैैं। जले पर नमक यह है कि दिल्ली सरकार ने बाहरी लोगों के इलाज पर रोक लगा दी है। ऐसे में हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल आमने-सामने आ गए हैं। मनाेहरलाल ने केजरीवाल पर जमकर हमला किया है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा केजरीवाल नहीं चाहते थे कि हम बार्डर खोलें

हरियाणा सरकार ने हालांकि दिल्ली से लगती सारी सीमाएं खोल दी हैैं, लेकिन अभी भी आने जाने में दिक्कतें आ रही हैैं, क्योंकि दिल्ली से न तो कोई यहां आ पा रहा है और न ही हरियाणा के लोग दिल्ली जा रहे हैैं। दिल्ली ने अचानक अपनी सीमाएं सील कर दी हैैं। इससे सीमाओं पर जाम के हालात हैैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि एमएचए (गृह मंत्रालय) की गाइड लाइन के मुताबिक हमने दिल्ली बार्डर को खोल दिया है। दिल्ली ने इसका विरोध किया। दिल्ली के मुख्‍यमंंत्री अरविंद केजरीवाल चाहते थे कि हम बार्डर न खोलें, लेकिन एमएचए की गाइड लाइन का अनुपालन करते हुए जैसे ही हमने बार्डर खोला तो दिल्ली ने बंद कर दिया। अब अगर दिल्ली चाहे तो अपने बार्डर खोल सकता है। यह फैसला राज्य सरकारों का है।

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने एक सवाल के जवाब में कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि एनसीआर के जिलों में कोरोना के केस बढ़ रहे हैैं, लेकिन औसत आधार पर दूसरे राज्यों की अपेक्षा यहां गंभीर स्थिति नहीं है। प्राइवेट लैब में जितने टेस्ट हुए थे, उनका डाटा सरकार के पास नहीं पहुंचा था। अब प्राइवेट लैब में टेस्ट और ठीक होने वाले लोगों की संख्या भी सरकारी डाटा में जोड़ी जाएगी। हमें लगता है कि हम किसी भी स्थिति से निपटने को तैयार हैैं।

अनिल विज बोले, दिल्ली में इलाज के लिए रोकना बर्दाश्त नहीं कर सकते

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि वह केंद्र सरकार के उलट चलते हैैं। जब एमएचए ने रोक लगाने के लिए कहा तो उन्होंने बॉर्डर खोल दिए और जब एमएचए ने खोलने के लिए कहा तो इन्होंने रोक लगा दी। उनका एजेंडा राजनीतिक है।

विज ने कहा कि केजरीवाल का यह कहना कतई उचित नहीं है कि दिल्ली में बाहर के लोगों का इलाज नहीं किया जाएगा। दिल्ली देश की राजधानी है। अगर कल केजरीवाल कहे कि बाहर के लोगों को दिल्ली के किसी संस्थान में नहीं जाने देंगे ये जायज बात नहीं है।

 

यह भी पढ़ें: मास्‍क जरूर पहनें, लेकिन जानें किन बातों का रखना है ध्‍यान, अन्‍यथा हो सकता है हाइपरकेपनिया


यह भी पढ़ें: डॉलर की चकाचौंध भूल गए थे अपना वतन, अब गांव की मिट्टी में रमे पंजाब के युवा

 

यह भी पढ़ें: 100 लाेगों को जाना था औरंगाबाद, बैठा दिया अररिया की ट्रेन में, खाने को मिलीं चार पूडि़यां व चटनी


यह भी पढ़ें: खुद को मृत साबित कर US जाकर बस गया, कोरोना के डर से 28 साल बाद पंजाब लौटा तो खुली पोल

 

यह भी पढ़ें: दादी से मिलने मालगाड़ी से चला गया किशोर, दो माह तक लखनऊ में भटकता रहा, डीसी ने पहुंचाया


पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस