राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पिछली हुड्डा सरकार में गृह मंत्री रह चुके हरियाणा लोकहित पार्टी के अध्यक्ष गोपाल कांडा ने बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात कर सियासत गरमा दी है। कांडा की मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात को भाजपा में आने की राह तैयार करने से जोड़कर देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें : छुट्टी मामला : विजेंद्र सिंह को राहत देने से हाई कोर्ट का इनकार

कांडा पिछली विधानसभा में आजाद विधायक चुने गए थे और बाकी छह विधायकके साथ मिलकर हुड्डा सरकार को करीब पौने पांच साल तक समर्थन दिए रखा था।दिल्ली की एयर होस्टेस गीतिका आत्महत्या कांड में सुर्खियों में आए गोपाल कांडा तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दिल्ली की कांग्रेस सरकार से किसी तरह का सहयोग नहीं मिलने से नाराज थे।

हुड्डा सरकार से समर्थन वापस लेने के दो दिन बाद कांडा ने 2 मई 2014 को हरियाणा लोकहित पार्टी का गठन किया और अधिकतर विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। चुनाव से पहले उनकी भाजपा, हजकां और हरियाणा जनचेतना पार्टी के साथ गठन की कई बार चर्चाएं चलीं, लेकिन बात नहीं बनी।हलोपा का राजनीतिक प्रदर्शन हालांकि निराशाजनक रहा।

यह भी पढ़ें : निजी स्कूलों में शुक्रवार से होेंगे गरीब बच्चों के मुफ्त दाखिले

पिछले कई दिनों से कांडा अचानक सक्रिय हो गए हैं।। उनके भाई एवं पार्टी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष गोबिंद कांडा ने निकाय व पंचायत चुनाव पार्टी चिन्ह पर लडऩे का ऐलान तक कर रखा है। भाजपा सरकार को बने साढ़े नौ माह हो गए। कांडा की मुख्यमंत्री से इस मुलाकात को उनके भाजपा प्रेम का इजहार बताया जा रहा है।
पूर्व गृह मंत्री कांडा ने कुछ दिन पहले अपने वरिष्ठ साथियों से भाजपा व कांग्रेस को लेकर चर्चा की थी। कुछ सलाहकारों ने उन्हें भाजपा को बेहतर बताया तो कुछ ने वापस कांग्रेस के साथ जाने की सलाह दी थी।

यह भी पढें : प्रोफेसर दंपती ने लड़की को बंधक बना प्रेस से दागा, बाल उखाड़े

पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा चुनाव के मुख्य रणनीतिकार अशोक बुवानीवाला भी बृहस्पतिवार को चंडीगढ़ में ही थे, लेकिन उन्होंने कांडा के मुख्यमंत्री से मिलने की कोई जानकारी होने से इनकार किया है। कांडा से जब सीएम से हुई मुलाकात के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। कांडा पिछली सरकार में अपने फोन टेप कराने का आरोप लगाकर भी सुर्खियों में आए थे।

Posted By: Sunil Kumar Jha