जेएनएन, चंडीगढ़। खेतों में बगैर बिजली के रहने को मजबूर लोगों को हरियाणा सरकार ने बड़ी राहत देते हुए अधिकारियों को गांवों के लाल डोरे के एक किलोमीटर के दायरे में स्थित प्रत्येक घर तक बिजली पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। इससे अधिक दूर स्थित घरों को सोलर सिस्टम दिए जाएंगे। सरकार के इस फैसले से प्रदेश के करीब साढ़े सात लाख परिवारों को फायदा होगा। हालांकि डिफाल्टरों को योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके महापात्रा और बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास के बीच हुई बैठक में योजना को सिरे चढ़ाने पर मंथन हुआ। इस दौरान बताया गया कि गांवों के लाल डोरे से एक किलोमीटर दूर तक के मकान केंद्र की सौभाग्य योजना के तहत कवर होंगे।

वहीं, इससे अधिक दूर स्थित परिवारों को मनोहर ज्योति योजना के तहत सोलर सिस्टम दिए जाएंगे। इसके अलावा अगर कोई अन्य व्यक्ति इस योजना का लाभ उठाना चाहता है तो वह उपमंडल अधिकारी को आवेदन कर सकता है। सौभाग्य स्कीम के तहत 65 करोड़ रुपये और सोलर सिस्टम के लिए 15 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है।

लाल डोरे में खाली पड़ी जमीन की होगी रजिस्ट्री

गांवों में लाल डोरे के दायरे में आने वाली खाली जमीन की रजिस्ट्री का रास्ता साफ हो गया है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने अफसरों को निर्देश दिए हैं कि डिजिटल इंडिया भू रिकॉर्ड आधुनिकीकरण के तहत आवश्यक राजस्व डाटा उपलब्ध कराएं। प्रदेश के छह हजार से अधिक गांवों में लाल डोरे के अंदर 20 फीसद से अधिक जमीन खाली पड़ी है, जिसकी मैपिंग की जा रही है।

मैपिंग के बाद खाली पड़ी जगह की रजिस्ट्री आसानी से हो सकेगी। अभी तक ऐसी करीब 1.66 हजार भू-संपत्तियों की पहचान हो चुकी। वर्तमान में गांवों में खाली पड़े प्लाट की रजिस्ट्री नहीं होने के कारण जमीन विवाद के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt