जेएनएन, चंडीगढ़/नई दिल्‍ली। चौटाला परिवार की कलह और बढ़ गई है व निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है। इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने अपने पौत्र व सांसद दुष्‍यंत चौटाला के बाद उनके भाई दिग्विजय चौटाला को भी इनेलो से निलंबित कर दिया है। दुष्‍यंत और दिग्विजय को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है और एक सप्ताह में जवाब देने को कहा गया है। इसके बाद, दिग्विजय ने बागी तेवर दिखाए हैं। दिग्विजय ने आेमप्रकाश चौटाला की कार्रवाई पर सवाल उठाया है। उन्‍होंने गाेहाना रैली की चर्चा करते हुए कहा कि कार्रवाई करने से पहले पूरे मामले की जांच कराई जानी चाहिए थी। दूसरी ओर, बताया जा रहा है अब तक चुप्‍पी साधे सांसद दुष्‍यंत चौटाला शनिवार को दिल्‍ली पहुंचने के बाद अपने समर्थकों से मिलेंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसके बाद किसी बड़े कदम का ऐलान कर सकते हैं।

दिग्विजय ने आेमप्रकाश चौटाला की कार्रवाई पर उठाए सवाल, दुष्‍यंत शनिवार को समर्थकों से मिलेंगे

बता दें कि आेमप्रकाश चाैटाला ने दुष्‍यंत युवा इनेलो व इनसो की सभी इकाइयों को भंग कर दिया था। उन्‍होंने इनेलो के संगठन में भी बदलाव किया था। इस कदम से चौटाला परिवार साफ तौर पर दोफाड़ होता दिख रहा है। शुक्रवार शाम नई दिल्‍ली में पत्रकारों से बातचीत में दिग्विजय चौटाला ने युवा इनेलो और इनसो की राष्ट्रीय कार्यकारिणी भंग करने के निर्णय पर एक बार फिर सवाल उठाए। उन्होंने कहा यदि गोहाना रैली में कुछ गलत हुआ था तो इनेलो सुप्रीमो को पहले जांच बैठानी आनी चाहिए थी या मुझसे इसकी जांच करानी चाहिए थी।

दिग्विजय ने आेमप्रकाश चौटाला की कार्रवाई पर उठाए सवाल

दिग्विजय चौटाला ने एक बार फिर कहा कि इनसो को भंग करने का निर्णय केवल डॉ. अजय सिंह चौटाला या इनसो की 26 सदस्य राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पास है। इनके अलावा अन्‍य किसी के पास यह अधिकार नहीं है। ऐसे में दिग्विजय के तेवर से साफ माना जा रहा है कि इनेलो अब दो फाड़ होने की कगार पर है। इन सब हालात के बीच सांसद दुष्‍यंत चौटाला शनिवार को नई दिल्‍ली स्थित अपने आवास 18 जनपथ आएंगे। वह यहां समर्थकाें के साथ चर्चा करेंगे औा इसके बाद वह पूरे मामले पर अपना रुख साफ कर सकते हैं।

नई दिल्‍ली में समर्थकों के साथ दिग्विजय सिंह चौटाला।

नई दिल्ली स्थित 18 जनपथ पर इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला से मिलने आए लोगों ने साफ कहा कि वे दुष्यंत विजय के साथ खड़े हैं समर्थकों से मिल रहे उत्साह पूर्ण सहयोग के चलते अब ऐसा माना जा रहा है उनकी इंडियन नेशनल लोकदल निश्चित रूप से दो फाड़ हो जाएगी शनिवार को सुबह 9:00 बजे से 6:30 बजे तक 18 जनपथ पर दुष्यंत चौटाला अपने समर्थकों से मिलेंगे और ऐसा माना जा रहा है कि करीब 3 से 4000 लोग 18 जनपथ पर उनसे मिलने दिल्ली आएंगे

आेमप्रकाश चौटाला ने दुष्यंत को पार्टी के सभी पदों से हटाया, नोटिस जारी कर एक सप्ताह में जवाब देने मांगा

बता दें कि इनेलाे सुप्रीमो एवं पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने बृहस्‍पतिवार को देर रात परिवार में चल रही कलह में बड़ी कार्रवाई की थी। चौटाला ने हिसार सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला को निलंबित कर दिया है। हरियाणा की राजनीति में पिछले 14 साल से सत्‍ता से बाहर चल रही इनेलो में आपरेशन क्लीन शुक्रवार को भी जारी रहा। पैरोल पर जेल से बाहर आए इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला ने शुक्रवार को दुष्‍यंत के छोटे भाई इनसो अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला को भी अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से निलंबित करने के आदेश जारी दिए।

दुष्यंत और दिग्विजय चौटाला इनेलो महासचिव डाॅ. अजय सिंह चौटाला के बेटे हैैं। अजय चौटाला इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला के बड़े पुत्र हैं और फिलहाल जेल में हैैं। वह दीपावली के आसपास पैरोल पर बाहर आएंगे। ओमप्रकाश चौटाला के कड़े फैसलों पर दुष्यंत चौटाला ने अभी चुप्पी साध रखी है। दूसरी ओर, उनके छोटे भाई दिग्विजय चौटाला ने बृहस्पतिवार को ही कहा था कि उनके पिता अजय चौटाला के अलावा किसी को इनसो को भंग करने का अधिकार नहीं है।

ओमप्रकाश चौटाला ने बृहस्पतिवार को इनेलो यूथ विंग और इनसो की राष्ट्रीय तथा राज्य कार्यकारिणी को भंग कर दिया था। चौटाला के इस फैसले के बाद दिग्विजय की टिप्पणी को अनुशासनहीनता मानते हुए उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई अमल में लाई गई है। शुक्रवार सुबह को चंडीगढ़ में अभय चौटाला ने प्रेस कांफ्रेंस में दुष्यंत चौटाला के निलंबन से अनभिज्ञता जाहिर की, लेकिन थोड़ी देर बाद ही दिग्विजय चौटाला के निलंबन की सूचना सार्वजनिक हो गई।

नई दिल्‍ली में दुष्‍यंत चौटाला के आवास पर पहुंचे समर्थक

उधर, दुष्‍यंत चौटाला के नई दिल्ली स्थित आवास 18 जनपथ पर शुक्रवार को काफी संख्‍या में उनके समर्थक पहुंचे। समर्थकों ने दिग्विजय सिंह चौटाला से मुलाकता की। वहां पहुंचे लोगों का कहना था कि वे दुष्यंत चौटाला के साथ खड़े हैं। दिग्विजय चौटाला ने बताया कि शनिवार को सुबह नौ बजे से 6:30 बजे तक 18 जनपथ पर दुष्यंत चौटाला अपने समर्थकों से मिलेंगे।

अजय चौटाला से मुलाकात के बाद दिग्विजय ने दिखाए तेवर

इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला के यूथ विंग और इनसो को भंग करने के फैसले के बाद दिग्विजय चौटाला ने बृहस्पतिवार को ही तिहाड़ जेल में अपने पिता डा. अजय सिंह चौटाला से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद ही दिग्विजय चौटाला का बयान आया, जिसमें वह कहते सुनाई दे रहे हैैं कि इनेलो का निर्माण अजय चौटाला ने किया था और उसे भंग करने का अधिकार भी उन्हीं का है।

ओमप्रकाश चौटाला ने किया दुष्यंत से मिलने से इंकार

इनेलो में चल रहे सियासी घटनाक्रम के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपने दादा के फैसले का सम्मान किया और उनसे मिलने की कोशिश की, लेकिन सूत्रों का कहना है कि ओमप्रकाश चौटाला ने उनसे मिलने से इन्‍कार कर दिया। चौटाला एक वीडियो में दुष्यंत को गोहाना रैली के मंच पर ही गुस्सा करते नजर आ रहे हैैं।

अनुशासित रहने का संदेश देने को लिए चौटाला ने कड़े फैसले

इनेलो से दुष्यंत व दिग्विजय के निलंबन के बाद अजय चौटाला का परिवार हाशिए पर पहुंच गया है। इनेलो में मचा घमासान कब थमता है, इस पर सबकी निगाह टिकी हुई है। इनेलो सूत्रों का कहना है कि चौटाला ने पार्टी में कभी भी अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की है। अनुशासनहीनता बरतने वाले यदि खुद अभय चौटाला होते तो उनके विरुद्ध भी कार्रवाई की जाती। पार्टी कार्यकर्ताओं को अनुशासन बरतने का संदेश देने के लिए ही चौटाला ने कड़े फैसले लिए हैैं।

-----------

अभय चौटाला बोले- दुष्‍यंत व दिग्विजय मेरे बच्‍चे,लेकिन अनुशासनहीनता बर्दाश्‍त नहीं

दूसरी ओर, अभय चौटाला ने कहा है कि उन्‍हें दुष्‍यंत के खिलाफ कार्रवाई के बारे में कोई जानकारी नहीं है। परिवार में कोई मतभेद नहीं है, लेकिन अनुशासनहीनता बर्दाश्‍त नहीं की जा सकती है। उन्होंने शुक्रवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पार्टी सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला को किसी को भी हटाने का अधिकार है। पार्टी में अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इनसो पार्टी का अभिन्न अंग है। पार्टी में कोई मतभेद या मनभेद नहीं है। 3 अक्टूबर की गुरुग्राम मीटिंग में ही ओमप्रकाश चौटाला को सब अधिकार दे दिए गए थे।

चंडीगढ़ में शुक्रवार सुबह पत्रकारों से बातचीत करते अभय चौटाला।

उन्‍होंने इनसो और युवा इनेलो की इकाइयों को भंग करने  की चर्चा करते हुए कहा कि चुनाव के समय में पार्टी को नुकसान हो सकता है, इसलिए हमने उनको बदलने का फैसला किया। पार्टी का हित सर्वोपरि है। दुष्यंत चौटाला को इनेलो से निलंबित करने के बारे में पूछे जाने पर अभय चौटाला ने कहा, मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। मेरे और दुष्यंत चौटाला के बीच कोई मतभेद नहीं है। रैली में युवा विंग और इनसो को जो जिम्मेदारी दी गई थी उसे ठीक ढंग से नहीं निभाया गया, इसलिए कार्रवाई की गई है। अभय चौटाला ने कहा, परिवार में कोई मतभेद या मनभेद नहीं है। परिवार में पूरी एकता है। दुष्‍यंत और दिग्विजय मेरे बच्‍चे हैं। कोई भी मसला हो हम उसे सुलझा लेंगे और सब मिलकर चलेंगे।

--------

पहले युवा इनेलो  इनसो कि राष्ट्रीय और प्रदेश कार्यकारिणी कर दी थी भंग

इससे पहले बृहस्पतिवार सुबह आेमप्रकाश चौटाला ने पार्टी की युवा इकाई और छात्र संगठन इनसो कि राष्ट्रीय और प्रदेश कार्यकारिणी को भंग करने का फैसला लिया था। 7 अक्टूबर की गोहाना में हुई सम्मान दिवस रैली के दौरान विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला के खिलाफ हुई हूटिंग के बाद चौटाला द्वारा शुरू किया गया ऑपरेशन क्लीन आने वाले दिनों में पार्टी में और भी बहुत सारे विकेट गिरा सकता है.

ओमप्रकाश चौटाला ने पूर्व उप प्रधानमंत्री ताऊ देवीलाल के जयंती समारोह में अभय चौटाला के भाषण के दौरान हूटिंग करने तथा हुड़दंग मचाने के लिए युवा और छात्र इकाइयों को दोषी माना है। चौटाला ने इनेलो यूथ विंग तथा इनसो की राष्ट्रीय एवं राज्य इकाइयों को तुरंत प्रभाव से भंग कर दिया।

राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी बड़े बदलाव, चौटाला खुद बने रहेंगे अध्यक्ष

चौटाला के इस फैसले से विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला का पार्टी में राजनीतिक कद बढ़ा है, जबकि दुष्यंत और दिग्विजय चौटाला नई रणनीति बना सकते हैैं। इनसो की कमान इनेलो महासचिव डा. अजय चौटाला के पुत्र एवं सांसद दुष्यंत चौटाला के भाई दिग्विजय चौटाला संभाले हुए थे। तीन दिन के चंडीगढ़ प्रवास पर चल रहे पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने इनेलो की दोनों युवा इकाइयों को अनुशासनहीनता और पार्टी के आदर्शों के विरुद्ध काम करने का दोषी पाया है।

यह भी पढ़ें: इनेलो में चाचा-भतीजे की रार का असर, चौटाला ने कई पदाधिकारी बदले

हिसार और दादरी के जिला प्रधानों की छुट्टी, अभय चौटाला का कद बढ़ाया

इन दोनों इकाइयों को भंग किए जाने से अब पार्टी में कलह कम होने के बजाय अधिक बढ़ेगी। 7 अक्टूबर को इनेलो की गोहाना रैली में हुई हूटिंग से ओमप्रकाश चौटाला खासे नाराज चल रहे थे। उन्होंने मंच से ही हुड़दंग मचाने वालों को सुधर जाने की नसीहत देते हुए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की चेतावनी दे डाली थी। चौटाला दो दिन बाद ही चंडीगढ़ आ गए थे और उन्होंने यहां तीन दिन रहकर प्रमुख कार्यकर्ताओं के साथ चर्चा की।

यह भी पढ़ें: चाचा-भतीजा के विवाद में बड़े चौटाला का फैसला- अभय ही होंगे राजनीतिक वारिस

बृहस्पतिवार को उन्होंने चंडीगढ़ में ही पार्टी में भारी फेरबदल करने का अपना फैसला सुनाया। चौटाला ने इनेलो की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी बदलाव किया है। साथ ही कई पदाधिकारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया और हिसार व दादरी के जिला प्रधानों को बदल दिया। दोनों जिला प्रधान अजय चौटाला और दुष्यंत चौटाला समर्थक बताए जाते हैैं। चौटाला खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे।

चौटाला की नजर में युवा इनेलो और इनसो ने रचा षड्यंत्र

ओमप्रकाश चौटाला की नजर में गोहाना में 7 अक्टूबर को हुई रैली में युवा इकाई अपनी भूमिका निभाने में असफल रही और इनसो पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त है। इनसो पर आरोप है कि पार्टी विरोधी लोगों के साथ मिलकर षड्यंत्र करते हुए रैली में गड़बड़ी फैलाने की कोशिश की गई और इनेलो की साख को बट्टा लगाने का प्रयास हुआ।

किसान और कर्मचारी सेल के संयोजक बदले, मेडिकल सेल बनाया

इससे पहले चौटाला ने इनेलाे के संगठन में भी बदलाव किया था। उन्‍होंने इनेलो किसान सेल के दायित्व से पूर्व विधायक निशान सिंह को मुक्त कर दिया। उनके स्थान पर पूर्व विधायक कली राम को नियुक्त किया गया है। कर्मचारी सेल में भी बदलाव करते हुए पूर्व संयोजक धारा सिंह को अब प्रभारी बनाया गया तथा संयोजक का दायित्व बलबीर सिंह को दिया गया। चौटाला ने नए मेडिकल सेल का गठन करते हुए डा. केसी काजल को संयोजक बनाया है।

दादरी और हिसार के जिला प्रधान भी बदले

इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने हिसार और दादरी जिले की इकाइयों में बदलाव करते हुए हिसार में राजेंद्र लितानी के स्थान पर सतबीर  सिसाय को जिला प्रधान नियुक्त किया है। दादरी में नरेश द्वारका के स्थान पर विजय पंचगांवा को जिला प्रधान बनाया गया है।

राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल हुए नए चेहरे, आरएस चौधरी महासचिव

इनेलो सुप्रीमो ने राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी में कई बदलाव किए हैैं। अनंत राम तंवर, साधू राम चौधरी, नारायण प्रसाद अग्रवाल, कुमारी फूलवती, अश्विनी दत्ता और रामभगत गुप्ता को उपाध्यक्ष बनाया गया है। पूर्व आइएएस आरएस चौधरी पार्टी के सेक्रेटरी जनरल होंगे। रमेश गर्ग, बृज शर्मा और पूर्व सांसद कैप्टन इंद्र सिंह महासचिव का पदभार संभालेंगे। हरियाणा लोकसेवा आयोग के पूर्व सदस्य युद्धवीर आर्य और  चत्तर सिंह के अलावा पूर्व विधायक बलवंत सिंह मायना, सुरेश मित्तल और अशोक शेरवाल को सचिव की जिम्मेदारी मिली है।

डाॅ. केसी बांगड़ राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाए गए

हरियाणा लोकसेवा आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. केसी बांगड़ को राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया गया है। दीपचंद गोयल पार्टी के खंजाची बनेंगे। पार्टी के सभी सांसद, विधानसभा में विपक्ष के नेता और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सदस्य बनाया गया है।

इनेलो संसदीय बोर्ड में भी बदलाव

इनेलो सुप्रीमो ने संसदीय बोर्ड में भी फेरबदल किया है। नंदलाल चौधरी के निधन होने के कारण बोर्ड के चेयरमैन ओमप्रकाश चौटाला के अलावा अब चार सदस्य अशोक अरोड़ा, बीडी डालिया, अंजू सिंह और कमल नागपाल होंगे।

Posted By: Sunil Kumar Jha