चंडीगढ़, [अनुराग अग्रवाल]। हरियाणा देश के उन अहम राज्यों में शुमार होने जा रहा है, जो शहरी गरीब लोगों को रियायती दरों पर मकान उपलब्ध कराएंगे। 37वीं केंद्रीय मंजूरी और निगरानी समिति की बैठक में करीब डेढ़ लाख रियायती दर वाले मकानों को स्वीकृति प्रदान की गई है। हरियाणा के अलावा आंध्र प्रदेश, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्यों ने अपने यहां शहरी गरीबों को सस्ते मकान देने के प्रस्ताव मंजूरी के लिए भेजे थे। हरियाणा सरकार फिलहाल करीब 68 हजार सस्ते मकान बनाकर देने को तैयार है।

पौने दो लाख मकानों के लिए आठ लाख लोगों ने किए थे आवेदन, छंटनी के बाद चार लाख बचे

प्रदेश सरकार ने शुरू में डेढ़ लाख शहरी लोगों को सस्ते मकान देने का लक्ष्य निर्धारित किया था, मगर इन मकानों के लिए आठ लाख लोगों के आवेदन मिलने के बाद परेशानी बढ़ गई। प्रदेश सरकार ने सर्वे कराया तो छंटनी के बाद चार लाख दावेदार कम हो गए। इसके बाद राज्य सरकार ने पौने दो लाख लोगों को सस्ते मकान मुहैया कराने का लक्ष्य निर्धारित किया, जिनमें से 68 हजार मकान वह किसी भी समय देने को तैयार है।

केंद्र सरकार ने किया हरियाणा का प्रस्ताव मंजूर, 68 हजार मकानों को मंजूरी

हरियाणा की शहरी निकाय मंत्री कविता जैन के अनुसार प्रदेश सरकार ने 68 हजार मकानों के लिए राज्य के 86 बिल्डरों को लाइसेंस भी जारी कर दिए हैं। फिलहाल यह मकान 14 शहरों में बनेंगे। धीरे-धीरे बिल्डरों, शहरों और मकानों की संख्या बढ़ाई जाएगी। नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के सहयोग से 508 एकड़ जमीन पर इन मकानों को तैयार करने का खाका बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: हरियाणा: गुरुकुल में छात्रों के साथ यौन शोषण, एक साल से हो रहे जुल्‍म का हुअा खुलासा

उन्‍होंने बताया कि राज्य सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले उन बेघर लोगों को भी मकान के लिए वित्तीय सहायता मुहैया कराने पर गंभीरता से विचार कर रही है, जो किसी तरह की योजना के दायरे में नहीं आते। ऐसे व्यक्ति को सरपंच और बीडीपीओ से सत्यापित आवेदन देना होगा।

झुग्गी-झोपडिय़ां भी होंगी आवासीय कालोनी में तबदील

प्रदेश सरकार पुराने शहरों के कोर एरिया में भी किफायती आवास बनाने की नीति को मंजूर कर चुकी है। इसके तहत प्रदेश को चार जोन में बांटा गया है। इसमें गुरुग्राम को हाइपर पोटेंशियल जोन में, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, पंचकूला व सोहना को हाई पोटेंशियल जोन, करनाल, हिसार, यमुनानगर, रोहतक, बहादुरगढ़, बावल, रेवाड़ी, पलवल, होडल, धारूहेडा व गन्नौर को मीडियम पोटेंशियल जोन में और बाकी शहरी क्षेत्रों को लो पोटेंशियल जोन में रखा गया है। झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों को भी निजी-सार्वजनिक भागीदारी से आवासीय कालोनी बनाकर देने की नीति तैयार हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: 84 के सिख विरोधी दंगों पर पंजाब में सियासी तूफान, कैप्‍टन बाेले- सज्‍जन समेत पांच थे शामिल

इन शहरों में जारी किए गए मकान बनाने के लिए लाइसेंस

शहर              लाइसेंस जारी           क्षेत्र (एकड़ में)

गुरुग्राम           46                       254.58

सोहना             10                       74.01

फरीदाबाद        12                       63.43

सोनीपत          02                       10

पानीपत           02                      12.82

करनाल           04                       34.43

पलवल            01                       10

पंचकूला           02                      8.23

बहादुरगढ़        01                       5.28

रेवाड़ी              02                      11.01

बावल             01                       5.44

नीलोखेड़ी        01                      7.00

धारूहेड़ा         01                       7.21

यमुनानगर     01                       5.12

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha