जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा के CID चीफ ने गृह मंत्री अनिल विज को वह रिपोर्ट भिजवा दी है, जिसे लेकर पिछले कई दिनों से विवाद की स्थिति बनी हुई थी। गृह मंत्री ने इस रिपोर्ट के लिए शुक्रवार तक की समय सीमा निर्धारित की थी। CID चीफ ने गृह विभाग के सचिव के माध्यम से गृह मंत्री के पास यह रिपोर्ट भिजवाई है।

गृह मंत्री अनिल विज ने कुछ दिन पहले CID चीफ से वह रिपोर्ट मांगी थी, जो उन्होंने विधानसभा चुनाव के दौरान तैयार की थी और सरकार को सौंपी थी। इस रिपोर्ट में CID इनपुट के आधार पर तमाम राजनीतिक दलों की स्थिति और जीत हार वाली सीटों का आकलन था। गृह मंत्री देखना चाहते थे कि चुनाव के दौरान CID ने क्या रिपोर्ट दी थी।

दो बार के रिमाइंडर के बाद भी जब यह रिपोर्ट नहीं मिली तो बवाल हो गया। हालांकि बाद में गृह मंत्री ने यह भी कहा कि उन्होंने चुनाव की रिपोर्ट नहीं, बल्कि वीआइपी को मिले गनमैन (सुरक्षा) के बारे में रिपोर्ट मांगी थी। इस रिपोर्ट के नहीं मिलने के तुरंत बाद विज ने फोन टैपिंग का मुद्दा उठाते हुए उन सभी नेताओं व लोगों की सूची तलब कर ली, जिनके फोन टैप किए जाते हैं।

इस पूरे विवाद को सीएम और विज के बीच तनातनी के रूप में प्रचारित किया गया, जबकि विज दो दिन पहले ही कह चुके थे कि सीएम के साथ उनकी बातचीत हो गई है और विवाद जैसी कोई स्थिति नहीं है। यही बात शुक्रवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल और भाजपा प्रभारी डॉ. अनिल जैन ने दोहराई है। सीएम के बयान के बाद विज ने फिर दोहराया कि उनका किसी से कोई विवाद नहीं है, लेकिन अगर कोई अफसर काम नहीं करेगा तो उसके विरुद्ध कार्रवाई से वह किसी सूरत में चूकने वाले नहीं हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस