जेएनएन, चंडीगढ़। पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा को नवजोत सिंह सिद्धू की जफ्फी से जुड़े मीडिया के सवालों पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह मीडिया चुप रहे। हालांकि नशे के खिलाफ जंग लडऩे के सात राज्यों के संयुक्त फैसले के बाद कैप्टन ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को गरमजोशी से गले लगाया।

नशे के खिलाफ सोमवार को तैयार की गई सात राज्यों की साझा मुहिम की जानकारी देने के लिए चंडीगढ़ स्थित हरियाणा निवास में कैप्टन अमरिंदर, मनोहर लाल और त्रिवेंद्र रावत संयुक्त रूप से मीडिया से मुखातिब हुए। बाकी राज्यों के प्रतिनिधि और अफसर भी मौजूद रहे।

मीडिया के सवालों से घिरे कैप्टन बोले, सिर्फ नशे से निपटने पर करेंगे बात

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सातों राज्यों द्वारा नशे के विरुद्ध बनाई गई संयुक्त रणनीति की जानकारी दी। बीच-बीच में वे कैप्टन और रावत की तरफ भी मुखातिब होते रहे। इसके बाद पूरे मीडिया के माइक कैप्टन की तरफ मुड़ गए। सिद्धू की बाजवा को जफ्फी से जुड़े सवाल पर कैप्टन ने कहा कि यह मौका इस इश्यू पर बात करने का नहीं है। मीडिया कर्मियों ने कैप्टन से और सवाल पूछने चाहे, मगर सुरक्षा कर्मियों ने घेरा छोटा कर दिया। बाद में कैप्टन जब चलने लगे तो उन्होंने मनोहर लाल को गले लगा लिया। ऐसा उन्होंने त्रिवेंद्र रावत के साथ भी किया। मेजबान मनोहर दोनों मुख्यमंत्रियों को उनकी गाड़ी तक छोडऩे गए।

सातों राज्यों ने वाजपेयी को दी श्रद्धांजलि

नशे के खिलाफ हुई सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रतिनिधियों की बैठक में सबसे पहले पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। कैप्टन, मनोहर और रावत समेत सभी प्रतिनिधियों व अधिकारियों ने अपने स्थानों पर खड़े होकर मौन धारण किया और वाजपेयी को याद किया।

Posted By: Sunil Kumar Jha