जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा में इनेलो व बसपा के राजनीतिक गठजोड़ पर भाजपा और कांग्रेस द्वारा संदेह जताने पर मायावतर और अभय चौटाला ने बुधवार को अलग अंदाज में जवाब दिया। बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को नई दिल्‍ली में अपने आवास पर इनेलो नेता अभय चौटाला को राखी बांधी। इसके साथ ही मायावती ने 25 सितंबर को जाटलैंड गोहाना में मनाए जाने वाले ताऊ देवीलाल के राज्य स्तरीय जयंती समारोह में शामिल होने की घोषणा की।

गठबंधन पर सवाल उठाने वाली भाजपा व कांग्रेस को मायावती व अभय चौटाला ने दिया जवाब

अभय चौटाला बुधवार को नई दिल्‍ली में मायावती को गोहाना रैली में शामिल होने का निमंत्रण देने गए। बसपा सुप्रीमो ने इसे स्वीकार कर लिया। इसके साथ ही मायावती ने अभय चौटाला को राखी भी बांधी। रक्षाबंधन के दिन अभय चौटाला उपलब्ध नहीं रहेंगे, इसलिए उन्होंने बुधवार को ही मायावती से राखी बंधवाई। मायावती ने उनको बाकायदा तिलक लगाया और राखी बांधी। बदले में चौटाला ने मायावती को राखी का शगुन भी दिया।

इनेलो नेता अभय चौटाला को राखी बांधतीं बसपा सुप्रीमो मायावती।

हरियाणा में इनेलो व बसपा के बीच इसी साल अप्रैल में गठबंधन हुआ था। गठबंधन के दिन ही अभय चौटाला ने मायावती को अपनी बहन बताते हुए उन्हें प्रधानमंत्री बनाने के संकल्प व्‍यक्‍त किया था। पिछले कुछ दिनों से इस गठबंधन पर भाजपा व कांग्रेस नेता सवाल उठा रहे थे। भाजपा और कांग्रेस के नेता गठंबधन हाेने के बाद से ही इसके चुनाव तक चलने पर संदेह जता रहे थे। उनका कहना है कि चुनाव से पहले ही इनेलो-बसपा में दरार पड़ जाएगी।

यह भी पढ़ें: पाक आर्मी चीफ को झप्‍पी देना सिद्धू पर पड़ा भारी, अब दे रहे सफाई, कैप्‍टन भी हुए गरम

अभय चौटाला को राखी बांधने के बाद तिलक लगातीं मायावती।

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य रणदीप सिंह सुरजेवाला के तो इस गठबंधन पर विरोधी सुर थे। हुड्डा जहां कांग्रेस व बसपा के मधुर रिश्तों और दोनों दलों में गठजोड़ पर जोर दे रहे हैं ताे सुरजेवाला ने ऐसे रिश्तों की संभावना से इन्‍कार किया। ऐसे में अभय चौटाला इनेलो और बसपा के गठबंधन की मजबूती को दिखाने के लिए मायावती से मिले।

यह भी पढ़ें: यदि आपका ब्‍लड ग्रुप भी है फेनोटाइप, तो हो सकती है मुसीबत, पढ़ें यह खबर

कांग्रेस व भाजपा नेताओं को जवाब देने के लिए अभय चौटाला गोहाना रैली में मायावती को बुलाना चाहते हैं और उनको इसके लिए निमंत्रण देने गए। इनेलो व बसपा के राजनीतिक गठबंधन के बाद 25 सितंबर को यह पहला मौका होगा, जब अभय चौटाला और मायावती दोनों एक मंच से पार्टी कार्यकर्ताओं को राजनीतिक संदेश देंगे।

------

'भाई-बहन का प्यार अटूट, अच्छी तरह समझ लें दूसरे दल'

'' मैैं बुधवार को बहन मायावती से दिल्ली में उनके निवास पर मिला। उन्हें गोहाना में 25 सितंबर की रैली का निमंत्रण दिया। बहन जी ने हमारा निमंत्रण स्वीकार कर लिया है। वह ताऊ देवीलाल के जयंती समारोह में शामिल होंगी। रक्षाबंधन के दिन चूंकि मैैं कहीं बाहर हूं, इसलिए मैैंने उसी समय बहन जी से राखी बंधवाई। उन्होंने मुझे तिलक लगाकर आशीर्वाद दिया और राखी बांधी। भाई-बहन का यह प्यार अटूट है। दूसरे राजनीतिक दलों के यह अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए।

                                                                                        - अभय सिंह चौटाला, नेता विपक्ष, हरियाणा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha