चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा भाजपा के नए अध्‍यक्ष की घोषणा पर सस्‍पेंस पैदा हो गया है। बताया गया था कि आज शाम तक नए अध्‍यक्ष के नाम की घोषणा कर दी जाएगी। चर्चा थी कि भाजपा ने राज्‍य में गैर जाट कार्ड खेलने की तैयारी की है और केंद्रीय राज्‍यमंत्री कृष्‍णपाल गुर्जर का हरियाणा भाजपा (Haryaan BJP President) बनना लगभग तय है। लेकिन, अब बताया जा रहा है कि इस पर फिलहाल 'ब्रेक' लग गया है। मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने कहा कि अभी पार्टी ने नए अध्‍यक्ष की घोषणा नहीं की है और इस कारण इस बारे में कुछ कहना सही नहीं है।

बताया जाता है कृष्णपाल गुर्जर की राह में उनके कई राजनीतिक 'दुश्मन' पहाड़ बनकर खड़े हो गए हैं। माना जा रहा है कि अभी प्रदेशाध्यक्ष के ऐलान में देरी होगी। सोशल मीडिया पर गुर्जर को गुलदस्ते देने संबंधी वायरल फोटो पर सीएम ने कहा कि अभी किसी को अध्यक्ष नहीं बनाया गया है। मुलाकातें तो होती रहती हैं और गुलदस्ते भी दिए जाते रहे हैं।

मुरलीधर ने पहले दी गुर्जर को बधाई, फिर ट्वीट किया डिलीट

अध्यक्ष पद के लिए चल रही गहमागहमी के बीच बुधवार को कई राजनीतिक खेल भी हुए। भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री मुरलीधर राव ने बुधवार सुबह साढ़े दस बजे के आसपास ट्वीट कर कृष्णपाल गुर्जर को प्रदेश अध्यक्ष बनने की बधाई दे दी थी, लेकिन दस मिनट के बाद ही इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया है।

बता दें कि भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री मुरलीधर राव और राष्ट्रीय मंत्री सुनील देवधर प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए 100 नेताओं की राय जानने के लिए हरियाणा आए थे। जब मुरलीधर ने ट्वीट किया तो कार्यकर्ताओं ने यह मान लिया कि गुर्जर अध्यक्ष हो गए, लेकिन बाद में ट्वीट डिलीट कर राव ने स्पष्ट कर दिया कि अभी तक हरियाणा भाजपा अध्यक्ष पद के लिए कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है।

गुर्जर के साथ फोटो पर सीएम मनोहर लाल ने ली चुटकी

हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष के नाम के फैसले और कृष्णपाल गुर्जर के साथ उनकी बुके की वायरल फोटो पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चुटकी ली है। उन्होंने कहा कि हम ऐसे ही मिलते रहते हैं। इसमें कोई नई बात नहीं है। कोई मिलता है तो फोटो होती रहती है। सीएम के इस बयान के बाद माना जाने लगा था कि कहीं कुछ गड़बड़ है। सूत्रों के अनुसार सीएम के नजदीकी उन्हेंं यह समझा रहे कि यदि गुर्जर आते हैं तो प्रदेश में उनकी राजनीतिक राहें मुश्किल हो सकती हैं, जबकि गुर्जर का दावा है कि वे हमेशा सीएम समर्थक रहे हैं।

कृष्‍णपाल गुर्जर पहले भी संभाल चुके हैं हरियाणा भाजपा कमान

इससे पहले कहा गया था केि भाजपा के सूत्रों से जानकारी के अनुसार केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर के नाम की भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के लिए आज शाम घोषणा संभव है। यह भी कहा जा रहा था कि गुर्जर केंद्रीय मंत्रिमंडल में बदलाव होने तक राज्य मंत्री और प्रदेश अध्यक्ष दोनों पदों पर बने रहेंगे।  वैसे वह पहले भी प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं और उनको संगठन चलाने का पूरा अनुभव है। हुड्डा सरकार के समय वह अपने चार विधायकों के साथ विधानसभा में टकराते रहे थे।

बताया जाता है कि हरियाणा प्रदेश अध्‍यक्ष पद के लिए वह मुख्यमंत्री मनोहर लाल की पहली पसंद  हैं। कहा जा रहा है कि कैप्टन अभिमन्‍यु और ओमप्रकाश धनखड़ को अलग-थलग करने के लिए मनोहर लाल ने यह दांव खेला है। मुख्यमंत्री की पूर्व की पसंद सुभाष बराला, कमल गुप्ता, नायब सैनी और संदीप जोशी के नाम पर जब हाईकमान सहमत नहीं हुआ तो कृष्णपाल गुर्जर का नाम किया मुख्यमंत्री ने आगे किया।

जानकारों का है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष पद पर कृष्णपाल गुर्जर की ताजपोशी हुई तो पूर्व केंद्रीय मंत्री चाैधरी बीरेंद्र सिंह का राजनीतिक कद भी भाजपा मेें बढ़ेगा। बीरेंद्र सिंह का खेमा यह कहेगा कि हाईकमान ने उनके नेता की पसंद को तरजीह दी। इसके साथ ही अब हरियाणा भाजपा काजाट अध्यक्ष नहीं होने का फायदा बीरेंद्र सिंह उठाने की कोशिश करेंगे। वह अपने बेटे सांसद बृजेंद्र सिंह को मंत्री बनवाने के लिए लाबिंग करेंगे।

गुर्जर की नियुक्ति हुई तो यह हरियाणा में भाजपा ने गैर जाट कार्ड होगा। विधानसभा चुनाव में भाजपा को  जाट मतदाताओं का समर्थन नहीं मिला था और इसी कारण पार्टी विधानसभा में बहुमत हासिल करने से चूक गई थी। जाट मतदाताओं के समर्थन के अभाव में ही भाजपा उम्मीद से कम 40 सीटें ही हासिल कर पाई थी।

इसके साथ ही माना जा रहा है कि हरियाणा में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की ताजपोशी के साथ ही प्रदेश मंत्रिमंडल में बदलाव तय है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कैबिनेट में अब भाजपा के किसी जाट विधायक को तरजीह दी जा सकती है। तीन मंत्रियों की छुट्टी कर जाट, पिछड़े व निर्दलीय विधायकों को एडजेस्‍ट करने की भी चर्चाएं हैं।

हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष पद के चुनाव में भाजपा के सहयोगी दल जजपा के संयोजक दुष्यंत चौटाला की पसंद का भी ख्याल गया है। बताया जाता है कि दुष्यंत चौटाला ने किसी जाट नेता को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बनाने का  विरोध किया था। कैप्टन अभिमन्यु या ओमप्रकाश धनखड़ के प्रदेश अध्यक्ष बनने की स्थिति में भाजपा-जजपा गठबंधन में शामिल दुष्यंत को राजनीतिक नुकसान हाे सकता था। कहा जा रहा है कि भाजपा भी नहीं चाहती थी कि गठबंधन को लेकर किसी तरह का विवाद खड़ा हो सके।

ह‍रियाणा भाजपा के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति के साथ ही संगठन में भी बदलाव की संभावना है। चर्चा है भाजपा के प्रदेश प्रभारी डा. अनिल जैन और प्रांतीय संगठन महामंत्री सुरेश भट्ठ भी बदले जा सकते हैं। पूर्व सीएम हुड्डा और चौटाला  को टक्कर देने के लिए भाजपा हरियाणा में अपनी मजबूत टीम तैयार करेेगी।

 

यह भी पढ़ें: पंजाब में बसों में सफर करना महंगा हुआ, किराये में छह पैसे प्रति किलोमीटर की वृद्धि

 

यह भी पढ़ें: अमरिंदर ने सिद्धू के लिए कैबिनेट के दरवाजे बंद किए, कहा- अच्‍छे वक्‍ता, लेकिन सक्रियता दिखाएं


यह भी पढ़ें: हाैसले व संघर्ष से तिरस्‍कार को सम्‍मान में बदला, पढ़ें समाज को आईना दिखाने वाली अनोखी कहानी


यह भी पढ़ें: Delhi NCR Earthquake: बार-बार भूकंप आने का कारण पता चला, भू-वैज्ञानिकों का बड़ा खुलासा


पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस