चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा के बेरोजगार युवाओं के लिए राहत की बड़ी खबर है। अब उनको सरकारी नौकरी के आवेदन में आ रही बड़ी परेशानी समाप्‍त हो गई है। अब उनको घर में पहले से किसी सदस्‍य के सरकारी में नहीं होने का तहसीलदार से सत्‍यापित शपथपत्र देने की जरूरत नहीं है। सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों की परेशानी को समझते हुए राज्य सरकार ने इस शर्त को समाप्‍त कर दिया है।

सरकार ने मजिस्ट्रेट (तहसीलदार) से सत्‍यापित शपथ पत्र की अनिवार्यता को खत्म करते हुए अब स्‍वयं सत्‍यापित शपथपत्र आवेदन के साथ लगाने की छूट दी है। इस संबंध में हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने आदेश जारी कर दिया है।

युवा अभ्यर्थियों को आवेदन पत्र के साथ स्वयं सत्यापित शपथपत्र लगाने की छूट

राज्य सरकार ने हाल ही में हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से करीब 10 हजार पदों की भर्तिसांं निकाली हैं। इसमें घर में कोई सरकारी नौकरी नहीं होने पर युवक-युवतियों को पांच अंक का अतिरिक्त लाभ देने की व्यवस्था की गई है। इस लाभ को हासिल करने के लिए आवेदन पत्र के साथ तहसीलदार या मजिस्‍ट्रेट से सत्यापित शपथ पत्र देना अनिवार्य था। इस शपथपत्र में यह दर्ज होना चाहिए कि संबंधित आवेदक के घर में कोई सरकारी नौकरी नहीं करता।

युवाओं की दिक्कत को समझते हुए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया आदेश

 इस शपथ पत्र को बनवाने के लिए राज्य भर में युवाओं में आपाधापी मची हुई है। सरल केंद्रों व तहसीलों में भारी भीड़ के चलते युवाओं खासकर लड़कियों को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है। अब हरियाणा सरकार ने युवाओं की इस दिक्कत को समझा तथा हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से व्यवस्था दी है कि आवेदक स्वयं सत्यापित शपथ पत्र भी आवेदन के साथ दे सकेंगे, जिसकी जांच सरकार बाद में करा सकती है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप