चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा में विदेशी नागरिक काफी संख्‍या में शरण ले रहे हैं। हरियाणा के राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से लगते शहर बगैर वैध दस्तावेजों के आने वाले विदेशियों के लिए पनाहगाह साबित हो रहे हैं। विदेशी नागरिकों के अवैध तरीके से रहने के मामले में जहां गुरुग्राम पहले स्थान पर है, वहीं फरीदाबाद दूसरे और सोनीपत तीसरे नंबर पर है। अवांछित रूप से रह रहे यह विदेशी नागरिक प्रदेश में कई तरह की आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने में भी लिप्त पाए गए हैं।

गुरुग्राम, फरीदाबाद और सोनीपत में बढ़ा अवैध रूप से रहने वाले विदेशियों का ग्राफ

राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की वार्षिक रिपोर्ट में यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। हरियाणा का करीब 60 फीसद हिस्सा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अधीन आता है। एनसीआरबी की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2016 में जहां विदेशी नागरिक 16 आपराधिक गतिविधियों में लिप्त पाए गए, वहीं 2017 में इनकी संख्या बढ़ कर 41 तक पहुंच गई।

इसके बाद प्रदेश सरकार ने गुरुग्राम में विदेशी नागरिकों की शिनाख्त का अभियान चलाया और नार्थ ईस्ट के लोगों के लिए पुलिस की अलग से हेल्प डेस्क बनाई गई। नतीजन वर्ष 2018 में एनसीआर क्षेत्र में विदेशी नागरिकों द्वारा किए गए अपराधों में कुछ कमी आई और आंकड़ा कम होकर 35 पर पहुंच गया।

एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार इस अवधि के दौरान विदेशी नागरिकों में सर्वाधिक 12 को विदेशी अधिनियम 1946 के तहत गिरफ्तार किया गया। ये विदेशी नागरिक पुलिस को भारत से जुड़ा कोई भी भारतीय दस्तावेज नहीं दे पाए। विदेश के मूल निवासी होने के लिए पुलिस द्वारा कराई गई वैरीफिकेशन के भी संतोषजनक जवाब नहीं आए। रिपोर्ट में साफ है कि विदेश में रहने वाले नागरिक जब भारत का रुख करते हैं तो दिल्ली से सटे गुरुग्राम व फरीदाबाद को अपने लिए सबसे सुरक्षित मानते हैं।

पुलिस ने वर्ष 2018 में छह विदेशी नागरिकों को नशे के कारोबार में लिप्त पाया। इनमें मुख्य रूप से नाइजीरियन तथा अमेरिकन मूल के लोग शामिल हैं। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार विदेशी नागरिकों द्वारा हरियाणा में रहकर तीसरे श्रेणी के जिस अपराध को अंजाम दिया गया है उसमें साइबर क्राइम तथा चोरी व झपटमारी की घटनाएं शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: Delhi Assembly Election में हरियाणवी तड़का, BJP और JJP में समझौते के बड़े संकेत

विदेशियों से झपटमारी व छेड़छाड़ के मामले बढ़े

हरियाणा में विदेशी नागरिकों द्वारा जहां आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा, वहीं कई विदेशी नागरिकों के साथ भी आपराधिक घटनाएं होती रही हैं। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2016 में आठ, 17 में 10 तथा 18 में 08 विदेशी नागरिकों के साथ अपराधिक घटनाएं हुईं। इनमें ज्यादातर छेड़छाड़ व झपटमारी के मामले शामिल हैं।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


यह भी पढ़ें: मनोहर और विज के विवाद के बाद सरकार की नई तैयारी, गृह विभाग और CID पर होगा बड़ा फैसला

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस