जेएनएन, चंडीगढ़। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए वादों की गठरी खोल दी है। अाम लोगों के लिए वादों की झड़ी लगाने के बाद वह कर्मचारियों और किसानों को लुभाने में जुट गए हैं। इस तरह उन्‍होंने राज्‍य में खुलकर चुनावी दांव खेलना शुरू कर दिया है। हुड्डा ने कहा है कि वह सत्ता में आने पर कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु 58 से बढ़ाकर 60 साल करेंगे और बिजली की दरें आधी कर देंगे। इसके साथ ही बिजली बिल दो महीने की जगह हर माह देने की बात कही।

सत्ता में आए तो 60 साल होगी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु

अपने सरकारी निवास पर सोमवार को पत्रकारों से रू-ब-रू भूपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हमने पहले भी रिटायरमेंट उम्र बढ़ाई थी, लेकिन मौजूदा सरकार ने इस फैसले को वापस ले लिया। कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने के लिए विधानसभा के मानसून सत्र में ही उन्होंने विधेयक लाने की मांग की। उन्‍होंने कहा कि भाजपा के चार साल के शासन में कई घोटाले हुए हैं। उन्होंने कहा कि यमुना में हजारों करोड़ के माइनिंग घोटाले से बाढ़ के हालात पैदा हो गए। धान और सरसों खरीद में हजारों करोड़ के घोटाले की आज तक जांच नहीं हुई। बिजली मीटर और बिजली खरीद में भी सरकार घोटाला कर रही है।

यह भी पढ़ें: हरियाणा: गुरुकुल में छात्रों के साथ यौन शोषण, एक साल से हो रहे जुल्‍म का हुअा खुलासा

बिजली का दाम होगा आधा, दो महीने की जगह हर माह बिल

हाल ही में कांग्रेस की चुनावी घोषणापत्र कमेटी में शामिल हुए हुड्डा ने कहा कि पार्टी के अधिवेशन में भी कई मुद्दों पर सहमति बन चुकी है। केंद्र में सरकार बनने के बाद किसानों के कर्जे माफ होंगे। उन्होंने कहा कि एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता बजरंग पूनिया और विनेश फौगाट जब लौटे तो उनके स्वागत के लिए सरकार की ओर से कोई प्रतिनिधि एयरपोर्ट पर नहीं पहुंचा। ऐसे में प्रदेश सरकार खिलाडिय़ों का अपमान कर रही है।

यह भी पढ़ें: 84 के सिख विरोधी दंगों पर पंजाब में सियासी तूफान, कैप्‍टन बाेले- सज्‍जन समेत पांच थे शामिल

विधानसभा के माॅनसून सत्र में नहीं चलेगा रथ

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जनक्रांति रथयात्रा के छठे चरण की शुरूआत 9 सितंबर को कुरुक्षेत्र के पिहोवा से होगी। 7 सितंबर से विधानसभा का माॅनसून सत्र शुरू हो रहा है, ऐसे में इस दौासप वह सदन में मौजूद रहेंगे। इस दौरान रथयात्रा को रोका जाएगा। 12 सितंबर को वह फिर से इसे शुरू करेंगे। रथयात्रा के दौरान हुड्डा पिहोवा के अलावा थानेसर, लाडवा और शाहबाद में बड़ी सभाएं करेंगे। वह कुरुक्षेत्र जिले में कुल चार दिन बिताएंगे।

वाजपेयी के नाम पर नए प्रोजेक्ट लाए सरकार

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर सरकारी योजनाओं के सवाल पर हुड्डा ने कहा कि पहले से चल रही योजनाओं का नाम नहीं बदला जाना चाहिए। सरकार वाजपेयी के नाम पर नए प्रोजेक्ट शुरू करे। सरकार अगर मेडिकल कॉलेज या यूनिवॢसटी बनाती है तो कांग्रेस खुलकर सरकार का समर्थन करेगी। उन्होंने कहा कि अटल किसी पार्टी विशेष के नहीं, बल्कि सभी दलों और देश के नेता थे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sunil Kumar Jha