चंडीगढ़, जेएनएन। हरियाणा विधानसभा में बजट सत्र के दौरान जमकर हंगामा होने के आसार हैैं। कांग्रेस ने करीब एक दर्जन मुद्दों पर भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार की घेराबंदी करने की रणनीति तैयार की है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि विधानसभा के विशेष सत्र में सरकार ने किसी विधायक को अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया। बजट सत्र के दौरान सरकार से उसके वादों का हिसाब मांगा जाएगा।

चंडीगढ़ स्थित अपने निवास पर मीडिया कर्मियों से बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा ने कहा कि पिछले पांच साल तक राज्य में नान परफारमेंस (नतीजे नहीं देने वाली) सरकार रही। अब यह नान फंग्शनल (काम नहीं करने वाली) सरकार बन गई है। पिछले पांच सालों में सरकार ने जमकर इवेंट किए, मगर अब कुछ भी नहीं कर पा रही।

हुड्डा ने भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि दोनों दलों की नीतियों व विचारों में कोई समानता नहीं है। फिर भी नंबर गेम के बूते सरकार बना ली गई। अब इस सरकार को जनता से किए अपने वादे पूरे करने चाहिए। यदि सरकार ऐसा नहीं कर पा रही तो गठबंधन के नेताओं को जनता के सामने हाथ जोड़कर माफी मांग लेनी चाहिए, ताकि उन्हें सरकार से किसी काम की आस न रहे।

पूर्व सीएम ने एक सवाल के जवाब में कहा कि राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है। अपराधी बिलों से बाहर निकल आए। कोई काम बिना पैसे लिए नहीं होता। धान घोटाला इसका बड़ा उदाहरण है। अभी तक तीन बार चावल मिलों की फिजिकल वैरीफिकेशन कराई जा चुकी है, जबकि असली नुकसान किसान का हुआ है। उसकी कोई चिंता नहीं कर रहा। किसानों को 300 से 400 रुपये क्विंटल धान के कम दाम मिले। सरकार बताए कि यह पैसा किसकी जेब में गया। सीबीआइ जांच के बिना यह पता लगाना संभव नहीं है।

हुड्डा ने कहा कि गठबंधन की सरकार के विधायक रामकुमार गौतम और देवेंद्र बबली समेत कई लोग ऐसे हैैं, जो कार्यप्रणाली से खुश नहीं हैैं। विधायकों की कोई सुनवाई नहीं है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि आम आदमी को अपने कामों के लिए कितने धक्के खाने पड़ते होंगे। उन्होंने कहा कि वह दिन दूर नहीं, जब यह दिशाहीन सरकार अपने खुद के बोझ तले दबकर गिर जाएगी।

कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे को किया जा रहा मजबूत

हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस अब ब्लाक से जिला और प्रदेश स्तर पर संगठन की मजबूती के लिए काम करेगी। इस कड़ी में सदस्यता अभियान चल रहा है, जिसके पूरा होने पर संगठन के चुनाव होंगे। तब तक कार्यवाहक प्रधान काम करते रहेंगे। उन्होंने एसवाईएल के पानी में देरी के लिए भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हरियाणा के हक में आ चुका है, जिसे अमल में लाने में भाजपा ने देरी की है।

सहकारी चीनी मिले में चिप घोटाले के आरोप

भारतीय किसान संघ कैथल के एक प्रतिनिधिमंडल ने बृहस्पतिवार को पूर्व सीएम हुड्डा से मुलाकात कर कैथल की सहकारी चीनी मिल में करोड़ों रुपये के चिप घोटाले का आरोप लगाया है। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे रणदीप सिंह आर्य ने कहा कि यूनियन ने एफआइआर भी दर्ज कराई, लेकिन आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। धान खरीद में भी 35 हजार मीट्रिक टन का घोटाला साबित हो चुका है। अकेले करनाल में 12 हजार मीट्रिक टन का घोटाला हुआ है।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस