जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की विदेश यात्रा पर सवाल उठाए हैैं। दलबल के साथ बुधवार को चंडीगढ़ में जुटे हुड्डा ने कहा कि पूरा प्रदेश, किसान और स्कूली बच्चे तूफान आने की आशंका में त्रस्त थे और मुख्यमंत्री विदेश में सैर कर रहे थे। उन्होंने सरकार से साढ़े तीन साल में हरियाणा में आए विदेशी निवेश का हिसाब-किताब मांगा।

चंडीगढ़ स्थित अपने निवास पर पत्रकारों से बातचीत में हुड्डा ने अपने कार्यकाल में आए विदेशी निवेश का ब्योरा भी पेश किया। उन्होंने बताया कि कांग्रेस के समय 25,816 करोड़ का विदेशी निवेश आया और उससे 1,15,888 लोगों को रोजगार मिले। भाजपा सरकार में एक रुपये का विदेशी निवेश नहीं आया, लेकिन उन्होंने 3,022 लोगों को रोजगार जरूर दिया।

पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा, एचएस चट्ठा, फूलचंद मुलाना, डा. रघुबीर कादियान, आफताब अहमद और बीबी बत्रा के साथ हुड्डा ने सीएम की विदेश यात्रा पर चुटकी ली। हुड्डा ने कहा कि मनोहर लाल विदेश में सिर्फ बैैंगन देखने गए हैैं। कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में बने सब्जी उत्कृष्टता केंद्र घरौंडा में ऐसे बैैंगन मौजूद हैैं। उन्हें देखने के लिए इजरायल जाने की जरूरत नहीं थी।

आरटीआइ से मांगा था निवेश का ब्योरा, नहीं मिला

हुड्डा ने बताया कि 20 अगस्त 2017 को लगाई गई आरटीआइ में सरकार से विदेशी निवेश (एफडीआइ) का ब्योरा मांगा गया था। राज्य सूचना आयोग ने 13 फरवरी 2018 को सरकार को जवाब देने के आदेश दिए, लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में हुए हैपनिंग हरियाणा इवेंट में बाहर से बुलाए गए उद्यमियों का खर्चा भी खुद सरकार ने ही वहन किया था। उनसे विदेशी निवेश आना तो सिर्फ हवाई बात है।

पंजाब के सीएम को चिट्ठी मात्र औपचारिकता

हुड्डा ने दादूपुर नलवी नहर की जमीन को डी-नोटिफाई नहीं किए जाने के बावजूद सड़क के निर्माण पर आपत्ति जताई। हुड्डा ने कहा कि पाकिस्तान जा रहे पानी को रोकने के लिए पंजाब को चिट्ठी लिखना सिर्फ औपचारिकता है, क्योंकि इस विवाद का हल सिर्फ केंद्र सरकार के पास है। हमारी सरकार में इस परियोजना के लिए वर्ष 2006 में डीपीआर बनी और वर्ष 2012 में केंद्र ने इस पर संज्ञान ले लिया था।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस